HATYARA KAUN

Email
Printed
HATYARA KAUN
Code: SPCL-0043-H
Pages: 64
ISBN: 9789332406834
Language: Hindi
Colors: Four
Author: Anupam Sinha
Penciler: Anupam Sinha
Inker: Vinod Kumar
Colorist: N/A
Rs. 50.00
Add to wish list
Description A conclave to determine the murderer of Dhruv has been convened by Kankaltantra a legendary warrior! He has promised great riches and great powers to the one who has finally managed to conquer Dhruv! Already the conclave has heard the testimony of Dhwani Raj, Bauna Vaman and Black Cat. Biotron the robot with artificial intelligence has rubbished their claims and they have left the conclave in disgrace! Now it's up to the rest of the participants to stake their claim to glory! The conclave resumes its deliberation with Dr. Virus presenting his claim! He claimed to have slain Dhruv, Samri, and Dr. Varghese in a combat! Biotron produces Samri and Dr. Varghese as witness to negate his claim! Chumba gets cold feet before his testimony and concedes that he did not kill Dhruv and was attending this conclave to try his luck! That left Chandakal, Supreme and grand master Robo as the probable villains responsible for Dhruv's death! So which shall be crowned as the super villain after proving that he had slain Dhruv? Will he get to rule this world or is there another twist to the tale? Watch Biotron examine the claims of super villains with a razor sharp wit and intelligence! But will he finally am ounce the winner of this conclave! Read the concluding and enthralling episode exclusively on Raj Comics!
Paperback Comics/Books that are parts of same Series
Collector Editions that are parts of same Series
Bundled Collections that have this Comics

Reviews

Monday, 26 May 2014
2nd part of maine mara dhruva story mein suspence bohot hi achchi tarah se banaya gya hai dhruva ka hatyara nikalta hai..............uske liye aapko comics padhni hogi story all time classic hai artwork ke toh kya kene must read b all
Kamal Satyani
Sunday, 23 March 2014
मैंने मारा ध्रुव को शायद अनुपम जी द्वारा लिखित ध्रुव की सर्वश्रेष्ठ 5-6 कॉमिक्स में से एक गिनी जाएगी.इतनी मज़बूत कहानी को इतने रोचक अदालती अंदाज़ में प्रस्तुत करना और इतने सधे हुए चुस्त एक्शन सीन्स की रचना करना और इतने खलनायको की साथ साथ लोरी, ज़िन्गालू और धनंजय और किरगी, सामरी जैसे पात्रो को एक ही कहानी में समाहित करके उनकी भूमिका के साथ न्याय करके एक महाकाव्य की रचना करके ऐसी कथा लिखना शायद अनुपम जी के ही बस ही बात है. गवाही में सबसे मनोरंजक मुझे बौना वामन और डॉक्टर वायरस की गवाही लगी और हर गवाही में क्या गज़ब का बेमिसाल एक्शन सीन डाले गयें हैं ध्रुव के जिसे देखकर उसके दुश्मनों के मुख से भी ध्रुव की तारीफ और प्रशंसा ही निकलती है. नए संयुक्त संस्करण में महामानव की नयी गवाही डाली गयी है जिसका चित्रांकन विनोद जी ने किया है,नयी गवाही में ध्रुव, महामानव और किरगी के बीच सधे हुए करारे एक्शन दृश्य डाले गए हैं और कहानी का अंत भी रोचक है. बस मुझे ब्लैक कैट जैसी क्रूर और दुष्ट औरत का ज्यादा चरित्र महिमामंडन करना वाकई ख़राब लगता है और उसकी जगह लेखक को नताशा के सख्त और सच्चे चरित्र को और भी ज्यादा अन्वेषित करना चाहिए. अगर आप ध्रुव प्रेमी नहीं भी हैं तो इस कॉमिक्स को पढने के बाद आप स्वयं ध्रुव फैन बन जायेंगे.
sachin dubey