VARTMAAN

Email
Printed
VARTMAAN
Code: SPCL-0680-H
Pages: 96
ISBN: 9789332413290
Language: Hindi
Colors: Four
Author: Jolly Sinha
Penciler: Anupam Sinha
Inker: Vinod Kumar
Colorist: Sunil Pandey
Rs. 90.00
Add to wish list
Description नागराज और ध्रुव से आकर टकराया एक अनोखा विलेन। जिसने छेड़  दिया ध्रुव के अतीत का एक हिस्सा जिसके परिणामस्वरूप बदल गया ध्रुव का वर्तमान। अब ध्रुव एक सुपरहीरो न होकर है एक सुपरविलेन; धुरवा! जिसने नागराज को पहुंचा दिया मौत के द्वार तक। अब अगर नागराज को खुद को बचाना है तो उसे बदलना होगा ध्रुव का अतीत। वर्ना मिट जाएगा नागराज का 'वर्तमान'।
Bundled Collections that have this Comics

Reviews

Thursday, 30 October 2014
जॉली जी के द्वारा एक बहुत बढ़िया स्टोरी...खास कर के धुरवा का रोल...
Nabi Ahmad
Wednesday, 22 October 2014
'वर्तमान ' कॉमिक्स शायद 2003 या 2004 में तब आई थी जब राज कॉमिक्स में अच्छी कहानियो का आभाव सा हो गया था और कॉमिक्स प्रेमी कुछ नए और रोमांचक अनुभव के लिए तरस रहे थे ठीक उसी समय इस कॉमिक्स ने आकर कॉमिक्स प्रेमियों का राज कॉमिक्स पर विश्वास फिर से मज़बूत कर दिया। ये शायद राज कॉमिक्स की 'समय यात्रा ' या TIME TRAVEL पर आधारित सर्वश्रेष्ठ कॉमिक्स है। ये कहानी ध्रुव पर आधारित है लेकिन फिर भी कॉमिक्स का मुख्य हीरो नागराज है जो किस तरह अपने भाई जैसे दोस्त ध्रुव को अपराध की काली दुनिया से बचाने और उसे फिर से रक्षक ध्रुव बनाने के लिए बाबा गोरखनाथ की सहायता से तंत्रा ,मिस किलर ,रोबो और प्रोफेसर नागमणि तक से भीड़ जाता है। कॉमिक्स में जब नागराज एकाग्र होकर ध्यान लगाता है और खलनायक उसमे व्यवधान डालने का प्रयास करते हैं वो दृश्य जॉली जी ने बेहद मज़बूती से लिखा है। कॉमिक्स में नागराज ने अपनी 'इंसानी जान न लेने ' की कसम फिर दोहराई है और इस विषय पर अनुपम -जॉली जी को एक कहानी अवश्य लिखनी चाहिए। चित्रांकन और एक्शन सीन्स तो गज़ब के बने हैं क्लासिक कॉमिक्स है क्लासिक
sachin dubey
Friday, 01 August 2014
Another good comics of the duo (Nagraj & Dhruva). {(Everything is fine except for the fact that Nagraj can alter the past living in present via his mind... If this is the case, then why does he use this skill in this comics only? Why not in any other comics where the situations were even worse?...) Quite supid but OK} Once more, a must have comics for all...
Sudhanshu Mishra
More reviews