VARAN KAND

Email
Printed
VARAN KAND
Code: SPCL-2265-H
Pages: 80
ISBN: 9789332413894
Language: Hindi
Colors: Four
Author: Anupam Sinha, Jolly Sinha
Penciler: Anupam Sinha
Inker: Vinod Kumar
Colorist: Nagendra Pal, Vishwajaya Ghosh,
Rs. 60.00
Add to wish list
Paperback Comics/Books that are parts of same Series
Collector Editions that are parts of same Series
Bundled Collections that have this Comics

Reviews

Friday, 03 October 2014
Story of varan kand Son 2023 pralaya domkatu pritvi se tak range wala tha.Uske vidhvans se bachne ke liye pritvivasiyo ne underground cities me rahna suru kar diya.Pralya pritvi se takraya Waha gaha gurudev nagpasha par ake ppraog kar rahe the.Pralya ki pralakakari black powers ne nagpasha par apana kabza kar liya sath hi nagpasha ko thin ropo me bat diya.Aak bana mahasaktisali krurpasa.Dosara rop bana mahaalsi supatpasa.Thisra rop bana darkpok aur kayar birupassa. Son 2025 black powers ki saktio ke sattha krurpasa visva ko apana golam banana chata hai.Lakin Uske samne akand parvat ke sama kade hai nagraj and scd.Is yudh me Unke sath hai guru goraknath.Gyru goraknath is yudh ki bisanta ko bhali bati gate hai.Wo unhe sath lekar pohoche ahudya me jha guru dron unhe astra-sastra pradan kiye aur unhe parchalan me prachicit kiya.Dono yodha Kisi bhi yodha ke liye porne rop se taiyar ho gaye.kintu isi bich krurpasa ke pas pohoche nagina.Ushne krurpasa ko bataya ki agar ushe youdh gitna hai to is samhe ki nirnayak sakti nagsakti ko ushe hasil karna hoga.Nagsaktiya Jo ki son 2025 me ikchadari nago ke rop me aap mana banker manavo ke bhic bhi rah rahi thi aur black powers ke virus manavo ki madad kar rahi hai.Nagsakti ko hail krne ka aakmatra rasta gai rajkumari vispi se vivah.Idhar nagdweep me ho raha hai nagkumari vispi ka sawamvar.Is mahaayogan me ga pohoche nagraj and scd.Bade-bade balsali sawamvar me har bade yha Thak ki krurpasa bhi doal chat badtha. Tab nagraj bana sawamvar ka vijeta aur vispi ka pati. Ye thi varan kand ki kahani Isse aage ki kahani gari hai graven kand me..,....
RISHIT RISHIT
Monday, 28 July 2014
वरण कांड राज कॉमिक्स कि नागायण महागाथा श्रृंखला का पहला भाग है आइये इसके कुछ विशेष पहलुओं पर प्रकाश डालते हैं 1.कॉमिक्स के तीसरे पृष्ठ में ही जिस तरह मीटिंग के दौरान मेज़ पर विशिष्ट जगह के नक़्शे का त्रिआयामी छोटे रूप में दिखाया गया है वो तकनीक जेम्स कैमरून ने `अवतार' में 2009 में दिखाया लेकिन अनुपम जी ने उस तकनीक को 2 साल पहले ही नागायण में दिखा दिया. 2.कॉमिक्स में काफी स्याह और गंभीर स्तर पर कथा को आगे बढ़ाया गया है बिना किसी हास्य या व्यंग्य के ये इस कॉमिक्स कि एक विशेषता रही लेकिन फिर भी एक किरदार का अपनी इच्छाधारी नागिन रुपी पत्नी को देखकर भागना और फिर ये संवाद "पहले जाति का भेद मिटा और अब प्रजाति का" न चाहते हुए भी हास्य ले ही आया. 3.कॉमिक्स में नागपाश का क्रूर रूप और उसकी क्रूर दंड सच में आपके अन्दर सिहरन पैदा करता है और गुरुदेव जैसे कुटिल का नागपाश के सामने झुक कर रहना भी `क्रुरपाश'कि भयावहता में वृद्धि करता है. 4.बाबा गोरखनाथ इस कथा की नीव रहे और उनका अपनी सात्विक शक्तियों द्वारा नागराज को कोम से बाहर लाना बेहद उम्दा दृश्य रहा. 5.नागराज कि भारती से शादी थोड़ी अटपटी लगी वो भी तब जब न्याययालय में power of attorney यानि स्वीकृत अधिकार किसी को दिया जा सकता था. 6.ध्रुव को चाहे वैवाहिक परेशानियों के कारणवश ही सही लेकिन उतना संवेदनशील नहीं दिखाया गया जो कि थोड़ा अटपटा लगा. 7.नागराज जैसे विश्व रक्षक हीरो को जो भारती चैनल का एक पत्रकार भी है उसे इतने वृहद् धूमकेतु प्रलय के विषय में अंजान दिखना थोड़ा सा अजीब लगा लेकिन फिर भी अनुपम जी द्वारा नागराज कि क्रुरपाश से पहली भिड़ंत कि स्थिति को पूरी तरह से कारण दिया गया है. 8.कॉमिक्स की चरित्र रचना मज़बूत रही लेकिन अच्छे एक्शन दृश्यों कि कमी खली. कुलमिलाकर वरण कांड से नागायण कि सार्थक प्रारंभ हुआ जिसमे एक्शन से अधिक मज़बूत चरित्रों को गड़ने में ध्यान दिया गया.
sachin dubey
Monday, 26 May 2014
start of a mindblowing series this series is going to be the best series of rc story is awesome artwork is great as well nagayan rockzzzz
Kamal Satyani
More reviews