DOGA DIGEST 5

Email
Printed
DOGA DIGEST 5
Code: DGST-0063-H
Pages: 96
ISBN: 9789332418424
Language: Hindi
Colors: Four
Author: Tarun Kumar Wahi, Sanjay Gupta
Penciler: Manu
Inker: N/A
Colorist: N/A
Rs. 50.00
Add to wish list
Description हड़ताल #531:कानून से खिलवाड़ करने वालों को सलाखों के पीछे पहुंचा देने की इच्छा रखने वाला इंस्पेक्टर चीता आज खुद हो गया है सलाखों के पीछे। र्निदोषों को कानून का सुरक्षा कवच देने वाला आज खुद बन गया है कई र्निदोषों की मौत का गुनहगार। लेकिन इस सच्चाई को ना मोनिका, ना सूरज, ना अदरक चाचा मान पाए हैं और ना ही मान पाई है पुलिस फोर्स। इसलिए मुम्बई पुलिस ने कर दी है मुबंई में हड़ताल। अब कौन रखवाला है मुम्बई की जनता का? डोगा जिंदाबाद#536:मुम्बई में पुलिस ने कर दी हड़ताल। गुंडे बदमाशों की हो गई थी चांदी। लेकिन वो नहीं जानते थे कि कानून हड़ताल पर है डोगा नहीं। डोगा बना उन अपराधियों के लिये आतंक का पर्याय और बिच्छु बना मोनिका के लिये दहशत का दूसरा नाम। आखिर क्या था बिच्छु का रहस्य? क्यों हुई थी हड़ताल? बिच्छु#540:बिच्छु जो मोनिका के लिए बन गया है खौफ की काली रात। बिच्छु जो डोगा के लिए बन गया है अबूझ पहेली। बिच्छु जिसने इंस्पेक्टर चीता जैसे धुरंधर के भी छक्के छुड़ा दिए। आखिर कौन था बिच्छु?
Bundled Collections that have this Comics

Reviews

Sunday, 23 March 2014
An amazing digest with awesome stories & artwork. Must Read
Rajal Sharma
Sunday, 09 February 2014
All the three comics in this digest is awesome. The story is amazing with good artwork. A must buy digest.
Prashant Rawat
Friday, 07 February 2014
3 comics ka jabardast collection hai jisme se hadtal, doga jindabad and bichchhu comcis shamil hai ...teeno hi superhit comics hai jinki story and arts sab kuch jabardast hai...ye teeno me ek hi story hai yaani ki ye ek mini series hai
rajiv choudhary
More reviews