NAGRAJ DIGEST 9

Email
Printed
NAGRAJ DIGEST 9
Code: DGST-0065-H
Pages: 96
ISBN: 9789332418448
Language: Hindi
Colors: Four
Author: Tarun Kumar Wahi, Sanjay Gupta
Penciler: Pratap Mulick, Chandu
Inker: N/A
Colorist: N/A
Rs. 75.00
Add to wish list
Description नागराज और लाल मौत-# 250 दुबई के अमीर को मारकर कुख्यात आतंकवादी गिरोह का सरगना युसुफ बिन अली खान बन बैठा दुबई का नया अमीर। दुबई को युसुफ बिन अली खान के आतंक से मुक्त कराने के लिए रूएबा ने नागराज से की मदद की अपील। तब नागराज ने रूएबा को युसुफ बिन अली खान की सेना से बचाया और दुबई की नई साम्राज्ञी घोषित कर दिया और चल पड़ा युसूफ को मौत देने के लिए उसके किले की तरफ मगर उसके किले के चारों तरफ थी रेगिस्तान में छिपी लाल मौत! क्या नागराज उस लाल मौत से बच पाया? नागराज और काबुकी का खजाना- # 270 जुर्म को मिटाने की नागराज की शपथ उसे खींच लाई तन्जानिया के जंगलों में जहां उसे मिले कुछ दोस्त और मिले जानवरों की बेरहमी से हत्या कर उनका सौदा करने वाले हैवान! और उन हैवानों का सम्राट था थोडांगा। थोडांगा जिसके बारे में प्रसिद्ध था कि वह रोजाना शक्तिशाली गैंडों से कुश्ती करता था। बेजुबान जानवरों की बेरहम हत्याओं को रोकने के लिए नागराज को करना था थोडांगा का अंत! लेकिन उसके रास्ते में दीवार बन कर खड़े थे जिपा और गुंटारा जैसे शैतान जिसके चंगुल से लोग मरकर ही छूटते हैं! नागराज और थोडांगा- # 280 तन्जानिया के जंगलों का बेताज बादशाह सम्राट थोडांगा के आतंक से जंगल और जंगली जानवरों को मुक्त करने के लिए नागराज टकरा जाता है जंगल के आतंक थोडांगा के खूंखार दैत्यों से! सम्राट थोडांगा को चाहिए काबुकी का खाजाना! तब होती है दोनों में एक खौफनाक टक्कर! नागराज के सारे वार थोडांगा पर बेअसर साबित होते हैं जबकि थोडांगा के वारों के आगे नागराज कहीं नहीं टिकता!
Bundled Collections that have this Comics

Reviews

Thursday, 25 September 2014
Although a good combo, this should be clubbed with few other digests, or there should have been the "Tajmahal ki chori" clubbed.
Vishal Bakhai
Saturday, 08 February 2014
its a combo of 3 good Nagraj comics with great stories & artwork. I liked Lal Maut the most out of all 3. Artwork is also great.
Rajal Sharma
Thursday, 06 February 2014
a good digest with lost of acting, thoranga ran from nagraj after getting defeat and humiliation , but lalmaut is superb,lovely comic
akash kumar
More reviews