DOGA DIGEST 10

Email
Printed
DOGA DIGEST 10
Code: DGST-0083-H
Pages: 192
ISBN: 9789332418622
Language: HINDI
Colors: Four
Author: Sanjay Gupta, Tarun Kumar Wahi
Penciler: Manu
Inker: N/A
Colorist: N/A
Rs. 120.00
Add to wish list
Description खतरनाक-32 ईगल ग्रह से आई एक बला ईगा जिसने मुम्बई के निरीह बेजुबान जानवरों को बदल दिया खतरनाक जीवों में! और जब डोगा और चीता इस मुसीबत को जड़ से उखाड़ने सामने आये तो ईगा ने उनको फंसा दिया मौत के जाल में! क्या डोगा इस समस्या को जड़ से उखाड़ पाया? तिरंगा-40 पुलिस दिवस पर तिरंगे के नीचे ही तिरंगे का अपमान करने वाले एम. एल. ए. दादा ठाकुर के खिलाफ जब इंस्पेक्टर नाना पाटेकर ने आवाज उठाई तो उसे जेल में ठूंस दिया गया! और फिर तिरंगे के सम्मान के लिए सामने आया एक देशभक्त मतवाला जो एक एक करके देश के दुश्मनों को जहन्नुम का रास्ता दिखा रहा था! डोगा भी कहां पीछे था, वो भी चुन चुन कर मार रहा था देशद्रोहियों को! सात सौ छियासी-48 सूरज को एक बूढ़े कुली से मिला बिल्ला नम्बर 786 और उसमें छुपा था एक जबरदस्त रहस्य! सूरज की पूर्व जिंदगी का रहस्य! मगर उस बिल्ले के पीछे पड़ा है पूरा अंडरवर्ल्ड भी! आखिर ऐसा क्या है उस बिल्ले में कि सभी उसके पीछे हैं?
Bundled Collections that have this Comics

Reviews

Monday, 10 February 2014
Is comics ke Doga ke teen special issume ka combination hai.....isme se Khatarnaak to kuch khaas achhi nahi kyonki Doga type na hokar leak se hatkar thi jisme Dusre Grah se aayi ek Villain Ega aati hai..... 2nd Tiranga & 3rd 786 dono ek se badhkar ek comics hain...... Tiranga story hai ek Kartavyanishth Inspector ki jo apne system se hara hua hai... wo tiranga bankar system ke kuch apradhiyon ko samapt karta hai aur Doga bhi uske saath hai.....3rd 786 me chhipa hai ek rahasy Doga ki Sonu ka rahayas....Doga fans ke liye ek must buy comics.
Mukesh Gupta
Friday, 07 February 2014
doga ka ek behtareen digest..
Shoaib Khan
Friday, 07 February 2014
A very good,old & classic story collection of Doga which is classic in terms of artwork as well. Must read for all.
Rajal Sharma
More reviews