BHERIYA DIGEST 2

Email
Printed
BHERIYA DIGEST 2
Code: DGST-0084-H
Pages: 192
ISBN: 9789332418639
Language: Hindi
Colors: Four
Author: Dheeraj Verma
Penciler: Dheeraj Verma, Malti Verma
Inker: Rajendra Dhauni
Colorist: N/A
Rs. 120.00
Add to wish list
Description भूरा बिल्ला-547 काला बच्चा का भाई और यूरोप अंडरवर्ल्ड का बादशाह भूरा बिल्ला अपने भाई की मौत का बदला लेने के लिए करवा लेता है भेड़िया का अपहरण और बेहोशी की हालत में छोड़ देता है एफिल टावर के नीचे! जब भेड़िया को होश आता है तो वो खुद को शांत जंगल से दूर कोलाहल से भरपूर पेरिस शहर में अंजान लोगों के बीच पाता है, जो बना देते हैं उसे एक तमाशा! ब्लास्ट-551 यूरोप अंडरवर्ल्ड का बादशाह भूरा बिल्ला भेड़िया का अपहरण करवा कर उसे मौत के पिंजरे में कैद कर देता है! पर इससे पहले कि भेड़िया उससे आजाद हो पाता उसके अड्डे पर हो जाता है एक जबरदस्त ब्लास्ट! क्या भेड़िया उस ब्लास्ट से बच पाया? लेजी-559 सुदूर अंतरिक्ष से आई एक बला “लेजी” जिसे अपने कंट्रोल में कर लेता है एक शैतान वैज्ञानिक रौनक अली और करना चाहता है दुनिया पर कब्जा! और जब भेड़िया उस रास्ते में आया तो लेजी ने भेड़िया को भी कर दिया बेहाल! क्या भेड़िया अंतरिक्ष से आई इस मुसीबत से बच पाया? मीन-574 पानी की गहराईयों को चीर कर आई एक मुसीबत मीन जिसने भेड़िया के जंगल में मचा दिया मौत का कोहराम! जगह जगह मिलने लगे निरीह और मूक पशु की क्षत विक्षत लाशें और जब भेड़िया उस खूंखार जानवर के सामने आया तो उसने छुड़ा दिए भेड़िया के भी छक्के! आखिर किसी थी वो आफत और क्यों कर रही थी ऐसा रक्तपात? लस्कुला-584 जब प्रोफेसर यूकी ने खतरनाक नरभक्षी स्कुला पौधे के जींस एक शांत पौधे लो में डाल कर अपना प्रयोग करना चाहा तो दुर्घटनावश वो बन गया एक बड़ा और खतरनाक नरभक्षी पौधा लस्कुला| लस्कुला ने मचा दी असम के जंगलों में तबाही! जब भेड़िया ने उसे रोकना चाहा तो उसने भेड़िया के भी नाको चने चबवा दिए! क्या हुआ फिर इस टकराव का अंजाम? लुटेरा शेर-603 लुटेरा शेर जो जंगली मोरों को मार कर उसका व्यापार करता था और जब भेड़िया उसके रास्ते में आया तो उसके आदमियों ने धोखे से कर लिया भेड़िया का ही अपहरण! अब भेड़िया है लुटेरा शेर के चंगुल में जहां से उसे मौत ही आजाद कर सकती है! क्या भेड़िया आजाद हो पाया?
Bundled Collections that have this Comics

Reviews

Sunday, 14 September 2014
All the comics in this digest is awesome
ravinder singh
Sunday, 09 February 2014
All the comics in this digest is awesome. The stories of these comics are amazing with good artwork.
Prashant Rawat
Sunday, 09 February 2014
kafi achcha issue hai jisme ki 6 comics ko sath me collect kiya gaya hai or wo sahi badiya storya hai..sab bheriya ke ekdam shuruaati comics ka colletction hai jisme bhura billa, blast, lazy, meen , laskulla and lutera sher shamil hai..
rajiv choudhary
Friday, 07 February 2014
is Digest me Bheriya ki 6 comics hai.... sabhi kahaniya rahasya aur romanch se bhari huyi hai.... mujhe is Digest ki Bhura billa aur Blastaur comics best lagi... Dheeraj verma ji ke artwork Awesome hai.
PREM YADAV
Thursday, 06 February 2014
main phle v kh chuka hu ki bundled aur digests me rating ki ek aur category honi chaiye - Collection, jisme hum us digest me include ki gyi comics k collection ko rate kr ske.... agar hoti to meri rating 4/5 hoti kyuki lazy ek bht hi kamzor kahani hi jo bheriya ko bilkul suit nh krti...... bki sb badhiya h
Ashish Kushwaha
Thursday, 06 February 2014
bhediya ka ye digest bahot accha hai.. har ek kahani bahot alag hai..
Shoaib Khan
Wednesday, 05 February 2014
A very good collection of the old Bheriya series which should be collected by every Bheriya fan. All the stories are good & artwork is also electrifying.
Rajal Sharma
Saturday, 01 February 2014
always good to read old comices ,loved the idea of having bheriya in other country and from there he got a counterpart or lifelong friend jane who ultimately dies while saving bheriya in amarprem series,,,the robotic man was nearly similar to grand master robo but i loved the comic
akash kumar
Thursday, 28 November 2013
This 2ns digest of bheriya contain 6 comics namely BHOORA BILLA, BLAST,LAZY,MEEN,LUSKULA AND LUTERA SHER. well art is as good in his last comics. bheriya is now evolved. writer is giving him more powerful villains like bhoora billa which tied the loose ends of bhireya past. villain luskula, meen and lazy are damn good and i want to see lazy and meen again. the last comics lutera sher was worst of all but its classic and for collector its great oppertunity to grab 6 cllasic issues of bheriya.
Karandeep Singh Marjara
Wednesday, 20 February 2013
सभी कॉमिक्स बोहोत अच्छी है और धीरज जी का चित्रांकन काफी सुंदर है .ब्लास्ट में जब भेरिया जर्मनी जाता है तब काफी अच्छा सीक्वेंस है लेकिन कहानी थोड़ी कमज़ोर लगी लेज़ी और मीन अच्छी सिंगल कॉमिक्स है जो रोमांचक है कुलमिलाकर पुरने 1994-1995 की यादें ताज़ा करने के लिए धन्यवाद
sachin dubey
Monday, 18 February 2013
jaisi comics ab aa rahi us hisab se to ye pehle wali comics kafi behtar h,nayi to ab inhe chhaapni chhod deni chahiye,bilkul hi bakwaas h,bs rate badhaye jaa rahe h aur story ekdum patt dheeraj verma k hatho me b ab wo pehle wala jaadu nahi raha,poori raj comics team barbaad ho chuki h,jin logo k paas purani h ya jinhone purani padhi h,unhe nayi bilkul pasand nahi aayengi,i m sure,sare purane readers is baat ko jaante hain,ok frnds bye
Prince Jindal
Saturday, 02 February 2013
Bheriya k starting k 6 aur comics. Story & artwork 2no hi bahut mast h. Enme bheriya ki peris yatra se lekar uski zen se mulakat bhi h. Lootera sher jisme bheriya ko public me sammanit bhi kiya jata h,dekh k aap ko vishwas nahi hoga. Jarur padhiye.
Deepak Pooniya
Thursday, 17 January 2013
Bhediya ko shuruaati safalta milne ke baad jaroorat thi...kuch aisi kahaniyon ki jo use ek hero ke roop mein majbooti se establish kar sakein...yeh 6 kahaniyan uss raaste par bilkul khari utarti hain...rahasya aur romanch se bhari aur Dheeraj verma ji ke jaandaar artwork se sazi yeh kahaniyan padhkar har koi Bhediya ka Fan ban jaayega. Recommended
YOUDHVEER SINGH