MAHA MANAV

Email
Printed
MAHA MANAV
Code: GENL-0179-H
Pages: 32
ISBN: 9788184915853
Language: Hindi
Colors: Four
Author: Anupam Sinha
Penciler: Anupam Sinha
Inker: N/A
Colorist: N/A
Paper: Plain
Condition: Fresh
Price: Printed
Rs. 50.00
Add to wish list
Description उत्तरी ध्रुव के बर्फीले इलाके में पहुंचा भारतीय दल एक मृत ज्वालामुखी के मुहाने को खोद देता है! जिससे बाहर आता है करोड़ों साल पहले पृथ्वी पर पाया जाने वाला दानव प्राणी डायनोसोर! छानबीन करने के लिए ध्रुव पहुंचता है उत्तरी ध्रुव और वहां उसका सामना होता है दो सौ करोड़ साल से जिंदा महामानव से जिसकी मानसिक शक्तियां तारों को भी हिला सकती हैं,ग्रहों को घुमा सकती हैं! जिसके सामने आज का आधुनिक मानव आदिमानव से ज्यादा हैसियत नहीं रखता और उसका मकसद है मानव के विकास को फिर से उस स्तर पर पहुंचा देना जिससे कि महामानवों की उत्पति हुई थी मगर इस चीज की कीमत है मानवों का सर्वनाश तो क्या ध्रुव निपट पायेगा इस सर्वश्रेष्ठ मस्तिष्क से?

Reviews

Wednesday, 05 March 2014
stroy bahut hi badhiya hai & artwork amazing
LOKANATH NANDA
Monday, 10 February 2014
DHRUV AUR MAHAMANAV KA PEHLA TAKRAV. PAGE 9 ME MAHAVILLAIN KA PEHLA SCENE. MAHAMANAV JO MAR NHI SKTA THA PR DHRUV KO USSE NIPATNA THA. USKI MANSIK SHAKTIYON KA MUQABLA KR AAKHIRKAR USE TEMPARARY ROK DETA H ARTWORK BHUT ACHA, STORY US TIME KE HISAB SE BHUT ALAG. MUST READ AND HAVE COMICS OF DHRUV!!.
Amber Gupta
Monday, 10 February 2014
mera dwara padi gayi scd ki pehli comic aur iss comic ko padhne ke baad me hamesha ke liye scd ka fan ho gaya.mahamanav ka kirdar bahut hi shandar tha iss comic me.i reccomodate this comic 4 all.
hemant prasad
More reviews