MAKKHI

Email
Printed
MAKKHI
Code: GENL-0281-H
Pages: 32
ISBN: 9788184916874
Language: Hindi
Colors: Four
Author: Tarun Kumar Wahi
Penciler: Chauhan
Inker: N/A
Colorist: N/A
Paper: Plain
Condition: Old Stock
Price: Stickered
Rs. 30.00
Add to wish list
Digests that have this Comics

Reviews

Friday, 14 February 2014
Again a very good story of parmanu with very good artwork. Can't be missed.
Prince Jindal
Sunday, 09 February 2014
भारतीय स्टेट बैंक में धावा बोला बैंक लुटेरों ने लोगों ने लुटेरों को रोका तो उन लुटेरों की मदद को आयीं खतरनाक मक्खियों का झुण्ड। परमाणु भी रहा नाकाम उन लुटेरों को पकड़ने में और फंस गया उन मक्खियों के जाल में। इस अनोखी डकैती का केस मिला इंस्पेक्टर विनय को और वो लग गया उन लुटेरों और रहस्यमयी मक्खियों की तलाश में। इधर लुटेरों के सरदार किंग मक्खी को भी थी परमाणु की तलाश उसको ख़त्म करने के लिए। क्या अंजाम हुआ परमाणु और मक्खी के इस जंग का? क्या परमाणु मक्खी को हरा पाया? जानने के लिए ज़रूर पढ़ें।
Mukesh Gupta
Saturday, 08 February 2014
Shayed jub ye cmx aayi hogi tb shayed logo ko pasand aayi hogi bt aaj ke time me ye jyada impresive cmx nehi hai isme buss ek villien hai jo sari loot ghasoth maar kaat apne makkhiyo se macheata hai cose makkhiyan uska aadesh manti hai ye villien parmanu ke liye bhe kayi maar mushkille khadi ker deta hai btnoarmanu aoni soojh boojh se uske 6atte numa adde per pohoch he jata hai nd usey hara deta hai buss ye he hai ek simole si story hai waise entertaining thi cmx
Avinash Tiwari
More reviews