ASHWAMANI

Email
Printed
ASHWAMANI
Code: GENL-0376-H
Pages: 32
ISBN: 9788184917826
Language: Hindi
Colors: Four
Author: Meenu Wahi
Penciler: Pratap Mulick, Chandu
Inker: N/A
Colorist: N/A
Paper: Plain
Condition: Old Stock
Price: Stickered
Rs. 30.00

Reviews

Monday, 10 February 2014
अपनी मंगेतर कुदुमछुम्बी को बचाने के लिए कारूं का खज़ाना लेने निकले अश्वराज की राह रोकने के लिए अपने शिष्यों के साथ मैदान में डटे थे महर्षि फूंकमसान। इधर कुदुमछुम्बी की पिता चिंतित सिंह चिंतित थे अपनी बेटी के लिए तब महर्षि फूंकमसान ने सुनाई अश्वराज के भूतकाल की कहानी की कैसे अश्वलोक के सूर्यवंशी सम्राट तारपीडो का बेटा अश्वराज और चंद्रवंशी सम्राट अश्वातंक के बेटी अश्वकीर्ती करते थे एक दुसरे से प्रेम पर सूर्यवंशियों और चंद्रवंशियों में थी दुश्मनी। इसलिए अश्वराज ले भागा अश्वकीर्ती को लेकर कारूं की घाटी जिसका पता केवल अश्वराज जी जानता था। परन्तु कारूं के घाटी पहुंचकर अश्वकीर्ति ने दे दिया अश्वराज को धोखा। फिर क्या हुआ? जानने के लिए पढ़ें।
Mukesh Gupta
Saturday, 08 February 2014
ashwmani bahot acchi comics hai.. story line acchi hai..
Shoaib Khan
Wednesday, 05 February 2014
Had Ashwraaj been given some importance & priority since starting then Ashwraaj could have emerged to level of Bhokal & i don't know why is he ignored by RC. This one is a great comics with some great fight sequences & artwork. Must read.
Rajal Sharma
More reviews