CURFUE

Email
Printed
CURFUE
Code: GENL-0395-H
Pages: 32
ISBN: 9788184918014
Language: Hindi
Colors: Four
Author: Tarun Kumar Wahi, Sanjay Gupta
Penciler: Manu
Inker: N/A
Colorist: N/A
Paper: Glossy
Condition: Fresh
Price: Printed
Rs. 50.00
Add to wish list
Description पुलिस चम्बल के खूंखार दस्यु हलकान सिंह के पीछे लगी थी। उसका बचना मुश्किल था। ऐसे में उसे कूड़े के ढेर पर पड़ा मिला एक बच्चा जो उसका नसीब बन गया। उस बच्चे को अपनी ढाल बना कर हलकान सिंह पुलिस के चुंगुल से निकल गया।उस अनाथ बच्चे ने हलकान सिंह के अड्डे पर इतनी दरिंदगी देखी कि उसे अपराध से नफरत हो गई। वक्त बीतने के साथ ही हलकान सिंह मुंबई आ गया। मुंबई में भी उसके अपराध जारी रहे लेकिन एक नए नाम एक नए रूप में। मुंबई में वो बन बैठा था मंत्री हलकट सिंह।तभी किसी अज्ञात जुनूनी ने मंत्री हलकट सिंह की मौत का ऐलान कर दिया। मंत्री की सुरक्षा के लिये लगा दिया गया कर्फ्यू। मगर कुत्ते सी उस सूरत के मालिक को किसी कर्फ्यू का खौफ नहीं था। वो तो उस कर्फ्यू को तोड़ने का प्रण कर चुका था। तो क्या वो ऐसा कर सका? आखिर कौन था वो कुत्ते सी सूरत वाला जुनूनी?
Paperback Comics/Books that are parts of same Series
Digests that are parts of same Series
Digests that have this Comics

Reviews

Friday, 07 February 2014
1st issue of Doga. Ye wajah kafi h esko padhne k liye Es cmx me doga k bachpan ki story, uska halkann singh k sath relation aur halkaan se bala dikhaya gaya h. Awesome cmx with nice action scene Artwork v mast h
Deepak Pooniya
Wednesday, 05 February 2014
I read it in my childhood & it contained the evolution of DOGA. Great story & great artwork.
Rajal Sharma
Tuesday, 04 February 2014
What a creation. Though this story was more about his background but even in the few frames doga announced his entry in a grand fashion. what a creation it was. Hats off to sanjay sir & Tarun ji. Manu sir ka artwork to awesome hai hi. FULL MARKS.. MUST READ
Avinash Tiwari
More reviews