BANKELAL AUR NARBHAKSHI LUTERE

Email
Printed
BANKELAL AUR NARBHAKSHI LUTERE
Code: GENL-0396-H
Pages: 32
ISBN: 9788184918021
Language: Hindi
Colors: Four
Author: Tarun Kumar Wahi
Penciler: Bedi
Inker: N/A
Colorist: N/A
Paper: Glossy
Condition: Fresh
Price: Printed
Rs. 50.00
Add to wish list
Description कंकड़ बाबा का शाप भुगत रहे बांकेलाल और राजा विक्रम सिंह इसबार पहुंचे गजलोक में जहां दोनों बन चुके थे गज यानी हाथी। गज लोक में मच्छरलोक के मच्छर दानवों ने मचा रखा था कोहराम हर कोई उनके डंक के कारण मलोरा ज्वर से पीड़ित था। विक्रम सिंह भी रोग ग्रस्त हो गया। अब रोगी थे कई और दवा की पुड़िया भी एक। अर्थात एक अनार सौ बिमार। पुड़िया बांके लाल छपट भागा और इसी भागम भाग में पुड़िया झील में घुल गई। तो क्या अब गए सब काम से?
Paperback Comics/Books that are parts of same Series
Digests that are parts of same Series
Digests that have this Comics

Reviews

Thursday, 30 October 2014
BANKELAL aur Vikram singh Iss bar pohoche gajlok me jaha Dono ban gaye hai h aati . Great story and artwork.
RISHIT RISHIT
Monday, 17 March 2014
Once again a classic humor from Bankelal.
Rajal Sharma
Thursday, 13 February 2014
A good story of Bankelal with good artwork
Prince Jindal
More reviews