PAHADI BABA

Email
Printed
PAHADI BABA
Code: GENL-0426-H
Pages: 32
ISBN: 9788184918328
Language: Hindi
Colors: Four
Author: Raja
Penciler: Chitrak
Inker: N/A
Colorist: N/A
Paper: Plain
Condition: Old Stock
Price: Stickered
Rs. 30.00

Reviews

Saturday, 15 February 2014
Its very good comic artwork is average
Prince Jindal
Monday, 10 February 2014
लोहगढ़ जहाँ एक पहाड़ी पर आवास था पहाड़ी बाबा का, दूर दूर से लोग उनके दर्शन को आते और अपनी समस्याओं का समाधान पाते, मोह माया से दूर पहाड़ी बाबा पूरे नगर में थे प्रसिद्ध। नगर में आतंक मचा रखा था डाकुओं के एक दल ने राजा मकरध्वज ने डाकुओं को पकड़ने की कई कोशिशें की परन्तु सब व्यर्थ। तब मकरध्वज ने मदद लेने पहुंचे पहाड़ी बाबा के पास और उनको बताया की उन्हें हैं शक दुर्जन सिंह पर जो उस डाकू संग्राम सिंह का बेटा है जिसे मकरध्वज ने बरसों पहले सजा दी थी। इधर मकरध्वज के दोनों पुत्र राजकुमार आदित्य और अश्विनी भी थे परेशान डाकुओं के हमले से। पहाड़ी बाबा इससे पहले की डाकुओं को पकड़ने का कोई उपाय कर पाते दुर्जन सिंह ने कर लिया अपहरण दोनों राजकुमारों का।
Mukesh Gupta
Wednesday, 05 February 2014
kuch daaku pahadi baba ban k logo ki help karte h wahi dusri taraf unhi ko loot te rahte h. . Raja k bete mil kar pahadi baba ki pol kholte h. Simple story with simple art.
Deepak Pooniya
More reviews