UDTI MAUT

Email
Printed
UDTI MAUT
Code: GENL-0560-H
Pages: 32
ISBN: 9788184919660
Language: Hindi
Colors: Four
Author: Anupam Sinha
Penciler: Anupam Sinha
Inker: N/A
Colorist: N/A
Paper: Plain
Condition: Fresh
Price: Printed
Rs. 50.00
Add to wish list
Description ध्रुव का सामना हुआ इस बार खतरनाक लेडीबर्ड से जिसके एक इशारे पर चिड़ियों का झुंड लोगों की चमड़ी उधेड़ देता था! क्या ध्रुव इस उड़ती मौत से बच पाया?

Reviews

Thursday, 06 March 2014
इस कॉमिक्स की विशेष बात थी अनुपम जी द्वारा चित्रित काफी ऊंचाई से एक शहर के पूरे दृश्य को पूरी खूबसूरती से चित्रित करना.अनुपम जी ने सुन्दरता से आसमानी दृश्य चित्रित किये हैं और कॉमिक्स का अधिकतर एक्शन भी ऊँची इमारतों और आकाश में ही रूप लेता है. कहानी मुख्यता प्रतिशोध की कहानी है जिसमे बीच मे ध्रुव फँस जाता है, एक्शन सीन्स में अनुपम जी ने बेहद बारीकी और खूबसूरती से कार्य किया है. कॉमिक्स एकल भाग में है. बोहोत्त ही अच्छी कॉमिक्स है.
sachin dubey
Wednesday, 19 February 2014
Dhruva ki ye genl bahut jyada khaas nahi maani jaa sakti hai, Kyunki Uss time dhruv bahut hi bahtreen comics de raha tha.. Aur ye use match karne me thoda asafal sabit hui hai.. Kahani ek ladki hai jisme baaz ki shaktiya hai. Uske saathi hai pakshi, Dhruva ke sath antim kshadon me takrav hi acha hai.. baaki artwork kaafi jandar hai... 3.1/5
ABHISHEK SINGH
Sunday, 09 February 2014
Their ain't many comics where you tend to have empathy for the antagonist but this is one of them. The story behind the mutant killing people in Rajnagar makes you go sorry for her and somewhat justify her actions. But it also projects the 'justice for all' mindset that has been the major idead behind almost every Dhruva comic.
Ankur Kaushik
More reviews