NAGRAJ AUR NAGINA

Email
Printed
NAGRAJ AUR NAGINA
Code: SPCL-0020-H
Pages: 64
ISBN: 9789332406599
Language: Hindi
Colors: Four
Author: Tarun Kumar Wahi
Penciler: Pratap Mulick, Chandu
Inker: N/A
Colorist: N/A
Paper: Plain
Condition: Fresh
Price: Stickered
Rs. 60.00
Description नगीना के हाथ लग गया है एक घातक हथियार जिसके दम पर अब दुनिया की साम्राज्ञी बनने से उसे कोई नहीं रोक सकता! इसके साथ ही उसने रच डाला है अपना स्वयंवर! शर्त ये थी कि जो भी नागराज का सिर काटकर उसके कदमों में डाल देगा वह उसी से विवाह करेगी! नागराज की जान के अब कई शक्तिशाली दुश्मन हैं!

Reviews

Friday, 03 October 2014
Story me fantasy aur action hai.artwork average hai.dinosours ko la kar apne accha kam kiya hai
RISHIT RISHIT
Friday, 08 August 2014
Amazing Story.. Nagraj ne Kekde,makde aur bicchudhade ko kutte ki tarah dhoya...
Rahul R Panelia