NAGRAJ AUR KANJA

Email
Printed
NAGRAJ AUR KANJA
Code: SPCL-0035-H
Pages: 64
ISBN: 9789332406759
Language: Hindi
Colors: Four
Author: Tarun Kumar Wahi
Penciler: Pratap Mulick, Milind Misal
Inker: N/A
Colorist: N/A
Paper: Plain
Condition: Fresh
Price: Printed
Rs. 60.00
Add to wish list
Description खूबसूरत बला कांजा जो दूसरे ग्रह से पृथ्वी पर आई थी और उसने अपनी शक्तियों की मदद से यहां के अपराधियों को गायब करना शुरू कर दिया। लेकिन ऐसा करने के पीछे उसका मकसद पृथ्वी वासियों की भलाई करना नहीं बल्कि कुछ और था। और उसका वह इरादा जल्दी ही नागराज की समझ में आ गया। नागराज ने उसे रोकना चाहा परंतु कांजा ने अपनी शक्तियों से नागराज को भी कर दिया गायब! और जब सच्चाई सामने आई तो नागराज के होश उड़ गए! क्या थी वो सच्चाई?
Digests that have this Comics

Reviews

Friday, 07 February 2014
Kanja ki yeh kahani kaaphi Hi-fi aur fantasy waali hai... Nagraj ka dusre greh par jana aur waha ki raani ko bachana kaafi achha laga... artwork bhi achcha bana hai.... achhi comics hai.
PREM YADAV
Tuesday, 28 January 2014
The comics was nice. The artwork was ok ok.
AATIF KHAN
Friday, 22 November 2013
This comic is ance again a good comic from Nagraj,Nagraj ka dusre greh par jana aur waha ki raani ko bachana kaafi achha laga aur us chhadi ki taakat bhi jo kisi ko bhi apne greh pr bhej deti thi,comic achhi hai,collective addition Story 4/5 Artwork 4/5
Shubham Kumar
More reviews