NAGRAJ AUR PAPRAJ

Email
Printed
NAGRAJ AUR PAPRAJ
Code: SPCL-0036-H
Pages: 64
ISBN: 9789332406766
Language: Hindi
Colors: Four
Author: Haneef Ajhar
Penciler: Pratap Mulick, Milind Misal, Vit
Inker: N/A
Colorist: N/A
Paper: Plain
Condition: Fresh
Price: Printed
Rs. 60.00
Add to wish list
Description हजारों साल बाद पैदा हुआ वह दिव्य बालक दुनिया में अमन और शांति लाने के लिए। परंतु दुनिया में पाप का राज फैलाने के मंसूबे देखने वाला पापराज अपहरण कर लेता है उस दिव्य बालक का और नागराज को मजबूर करता है पवित्र खंजर लाने के लिए ताकि वह उस पवित्र खंजर से दिव्य बालक की हत्या कर सके। अगर नागराज उस खंजर को नहीं लाता है तो खुद नागराज का भी बचना मुश्किल है। क्योंकि उसकी रगों में दौड़ता जहर पानी बन रहा है। लेकिन पवित्र खंजर को लाने का रास्ता भी मौत से भरा है! क्या नागराज उस पवित्र खंजर को लाएगा? क्या नागराज अपनी जान बचा पाएगा? क्या वह बचा पाएगा उस दिव्य बालक को या इस बार जीतेगा पाप का अवतार पापराज!"
Digests that have this Comics

Reviews

Friday, 07 February 2014
comics ki kahani mast hai... Villain Paapraj jabardast laga... Kahani mein Saudangi ka Role bahut majboot hai... aur comics me us ka marne wala seen to Awesome.... artwork achcha bana hai.
PREM YADAV
Wednesday, 29 January 2014
The story was ok. Artwork was above average. Role of saudangi was its highlight.
AATIF KHAN
Friday, 22 November 2013
This comic is a good comic of its time and a collective addition,paapraj ka character achha laga and uska saudangi ko kidnap karna bhi,is saal aayi chaaro comico ka artwork kaafi zabardast tha and story bhi thikthak thi,must read if you are Nagraj fan Story 4/5 Artwork 4/5 Again A Good Comic..!
Shubham Kumar
More reviews