ANDHI MAUT

Email
Printed
ANDHI MAUT
Code: SPCL-0073-H
Pages: 64
ISBN: 9789332407138
Language: Hindi
Colors: Four
Author: Anupam Sinha
Penciler: Anupam Sinha
Inker: Vitthal Kamble, Vinod Kumar
Colorist: N/A
Paper: Glossy
Condition: Fresh
Price: Printed
Rs. 60.00
Add to wish list
Description ध्रुव का सामना हुआ प्रकाश के खिलाड़ी सुपरनोवा से जिसने पूरी दुनिया को अपनी लेजर गन के निशाने पर ले लिया। जब ध्रुव ने उसे रोकने की कोशिश की तो उसने अपनी पराबैंगनी किरणों से ध्रुव को कर दिया अंधा और फंसा दिया मौत के जाल में जो कहलाती है अंधी मौत।
Digests that have this Comics

Reviews

Sunday, 08 June 2014
1996 में आई अंधी मौत वैसे पिछली कॉमिक 'हत्यारी राशियाँ' और अगली कॉमिक 'षड़यंत्र' से सीढ़ी नहीं तो परोक्ष रूप से जुड़ी हुई थी|अनुपम जी ने जिस तरह अन्तरिक्ष विज्ञान को सरल भाषा में एक रोमांचक कहानी में पिरोया है वो काफी प्रशंनीय है|कॉमिक्स में ध्रुव की टक्कर सुपरनोवा से होती है जो अपनी तीव्र प्रकाश किरणों से लोगों को अँधा कर डालता है और उसके ध्रुव से एक्शन सीन्स वाकई अच्छे बने हैं,ख़ासतौर से जब ध्रुव बिना देखे सुपरनोवा को खींच कर लात मारता है| कॉमिक्स का एक संवाद मुझे बहुत अच्छा लगा जब सुपरनोवा अपनी आदमियों से कहता है "सांड की औलादो कहाँ मर गए सब के सब" तो जवाब मिलता है "मरे नहीं, सिर्फ बेहोश हैं,मैं किसी को जान से नहीं मारता"| अनुपम जी के नायको में इतना रहम और मानवता होती है की कोई हीरो किसी विलन की जान तक नहीं लेता,ये बात अनुपम जी के किरदारों को और ऊँचा उठाती है| वैसे सुपरनोवा की सबसे खतरनाक ताक़त अँधा करती प्रकाश किरणों से ध्रुव की और लड़ाई दिखाई जाती तो और भी अधिक आनंद आता|वैसे अंत में विलन का अपनी योजना असफल होते देख अजीब और ऊट पटांग हरकतें देख कॉमिक्स में हास्य का भी अच्छा पुट देखने को मिला| अच्छी कॉमिक्स थी| 7/10.
sachin dubey
Monday, 26 May 2014
again a best from anupam sir story is nice artwork is great as well must read
Kamal Satyani
Saturday, 22 March 2014
An awesome & different story with great artwork.
Rajal Sharma
More reviews