GUNDA GAMRAJ KHUNI DOGA

Email
Printed
GUNDA GAMRAJ KHUNI DOGA
Code: SPCL-0498-H
Pages: 64
ISBN: 9789332411470
Language: Hindi
Colors: Four
Author: Tarun Kumar Wahi
Penciler: Prem
Inker: N/A
Colorist: N/A
Paper: Plain
Condition: Fresh
Price: Stickered
Rs. 60.00

Reviews

Friday, 03 October 2014
The comic has action and time travel.the story is good and the artwork is avrage.
RISHIT RISHIT
Friday, 29 August 2014
Shandaar damaakedaar comic hai, padkar bahut mza aya, Gamraj aur Doga k jalwe kamaal ke hain, superb comic, Tragedy king Gamraj & Raat ka rakshak Doga ROCKS !!!
Vipin Negi
Monday, 31 March 2014
इस कॉमिक्स में न कहानी मजबूत है और न हास्य, ये वाही जी द्वारा लिखी कमज़ोर कहानी है इसमें दो अपराधिक रूप गमराज और डोगा को अपनी अपराधिक गतिविधि से बदनाम करते हैं और अंत में सच्चाई से पर्दा उठता है. कॉमिक्स का सबसे हास्य पहलु तब आता है जब डोगा और गमराज बूढ़े हो जाते हैं और तब कॉमिक्स में थोड़ा हास्य उत्पन्न होता है, और रेडियो के बोझ से गमराज का झुकना काफी कॉमेडी सीन है प्रेम जी का चित्रांकन सिर्फ औसत है लेकिन कॉमिक्स एक बार पढ़ी जा सकती है, आज भी गमराज की कॉमिक्स में शुरुआती चित्रकार प्रदीप साठे जी की कमी बहुत महसूस होती है, राज कॉमिक्स को एक बार फिर उनसे गमराज को बनवाना चाहिए. 6/10
sachin dubey
More reviews