TAKBAK

Email
Printed
TAKBAK
Code: SPCL-2529-H
Pages: 48
ISBN: 9789332421202
Language: Hindi
Colors: Four
Author: Tarun Kumar Wahi, Anurag Kumar S
Penciler: Sushant Panda
Inker: Franko
Colorist: Basant Panda
Paper: Plain
Condition: Fresh
Price: Stickered
Rs. 50.00
Description तकबक# 2529 सबको सपने में भगवान शिव की भविष्यवाणी की गोली दे कर मुर्ख बना देने वाले बांकेलाल के सपने में इस बार सचमुच आए भगवान शिव और भोले बाबा ने बांकेलाल को बताया राजा विक्रमसिंह की मौत का उपाय! तो क्या इस बार भोले शंकर को भी आ गई बांकेलाल पर दया या यह कोई और चक्कर है?

Reviews

Saturday, 22 February 2014
sach me comics bahut acchhi hai ... Bhagwan Shankar khud sapne me aa kar banke ko mote ko maarne ki yojna batate hain ...and baanke tayaar kr deta hai plan .. jaisa ki Shankar bhagwan ne bataya ..and tab aata hai takbak oor banke ko das(bite)leta hai ... ab dekhna ye hai ki banke jinda rhta hai ya nhi ... jo mote ko maarne ke sapne dekhta rhta tha aaj wo khud hi mrityu ke muh me hai ... kahani majedaar hai .. artwork bhi mast hai .. bahut dino ke baad banke ki koi aisi comics aayi hai ... sabhi banke fans ko padni chaiye ye comics
Himanshu Saini
Thursday, 13 February 2014
nice concept, good artwork.. i must say its a full packed comedy.. go for it
Prince Jindal
Friday, 07 February 2014
a normal bankelal comic with lots of comedy ab har set me banke ki comic padh kar bor ho gaye hai.
hemant prasad
Friday, 07 February 2014
Waise to banke ki mostly comics ka ek hi concept hota hai ki banke vikram singh ko marne ka plan banta h aur last me fail ho jata h. par is bar last kuch comics me treatment alag tha. banke vikram singh ko apne jaal me fasa kar uski maut,Takbak, ko uske pichhe laga deta h. Aur es bar ye idea v banke ko Shiv jee ne khud btaya hai. kya vastav mein plan work karta hai?
AYAZ AHMAD
Thursday, 06 February 2014
story and artwork dono hi theek hai ..isme banke ek shadyantra ke tahat raja vikramsingh ko saanpo se katwane ke liye unhe saanpo ke bambi ki or le jata hai jaha ki senapati ko bhi uski bhanak ho jati hai
rajiv choudhary
Sunday, 02 February 2014
Bankelal's plot is well known and always the same but this time the execution is a little different. Coz its not about killing Vikram singh, its about saving his own life. Overall, a nice enjoyable read.
Ankur Kaushik
Sunday, 02 February 2014
लगातार आ रही बांकेलाल की कॉमिक्स में से ये भी एक है|लगता है कि राज कॉमिक्स वालों को कोई पिटारा मिल गया है जिसमे सिर्फ बांकेलाल की ही कहानियां भरी पड़ी हैं|ही ही ही|कांसेप्ट तो सबको पता है,और इस थ्योरी को कई बार इस्तेमाल भी किया गया है,पर इस बार विक्रमसिंह की जगह सिर्फ और सिर्फ बांकेलाल ही फंसा है|और उसे फंसाने में और किसी का नहीं बल्कि“भोले शंकर महादेव”का ही हाथ है|रानी कर्कशा मेरा मतलब स्वर्णा का रोले बहुत ही कम है,पर अपने बेलन की तरह ही दमदार है :D |इस बार भी बांकेलाल अपनी योजना को पूरा करने के लिए एक ऋषि का सहारा लेता है,दांव भी लगभग सही बैठता है|पर हाय रे बांकेलाल की फूटी किस्मत,उसकी योजनाओ का यहाँ भी सत्यानाश करवा दिया|पर ये पहली कॉमिक है जिसका अंत मोटे-मुच्छड़-मनहूस की गीली गीली पुच्चियों से नहीं हुआ है (भगवान का लाख लाख शुक्र है,अब आई राज कॉमिक्स वालों को अक्ल,बांके की इज्जत को सरेआम नीलम कर देते थे) अपितु एक नयी शुरुआत की तरफ हुआ है{कॉमिक एक ही पार्ट में पूरी है,दूसरा पार्ट नहीं है|सेनापति मरखप भी अपने अंदाज़ में बांके के पीछे पड़ा है,ये बात अलग है की हर बार की तरह इस बार भी उसे मुंह की खानी पड़ी|ही ही ही|तो भक्तों बारम्बार“ही ही ही”का जाप करते हुए और“बम बम भोले”का नारा लगाते हुए इस कॉमिक का घोंटा लगाये और ठहाके लगते हुए पड़ोसियों को जगाएं
AKASH KUMAR BARNWAL
Sunday, 02 February 2014
ARTWORK KABILE TAREEF HAI. STORYLINE TO EKDUM PURANI PAR EXECUTION NAY HAI. COMEDY KOOT KOOT KE BHAR RAKHI HAI JO AB MISS HONE LAGI THI. PADHIYE JRUR PAR PURANE DINO KO LOTANE LAYAK DIGEST NHI HAI.
Amber Gupta
Saturday, 01 February 2014
nice concept, good artwork.. i must say its a full packed comedy.. go for it
Shoaib Khan
Saturday, 01 February 2014
New comic of banke with lots of hansi. story ka comcept accha tha. bedi g k baad sushant ne bahut badiya sambhaal liya bankeko k bedi g k kami mehsoos nahi hoti. soty me iss baar shiv ka naya role dekhne ko mila . achi comic the banke k baaki comic k taraha
navdeep Singh Marjara
Friday, 31 January 2014
it was funny that banke's dream that he is headed to kailash parvat and bholenath met him and told how to kill vikramsingh,,,artwork is good as the sequence where mahadev disturbs the ichhadhari snake (takbak)was awesome
akash kumar
Friday, 31 January 2014
Now a days Bankelal is the second most disappointing character after Parmanu because the the amount & quality of humor which Banke used to have earlier is not seen now a days & Takbak is not an exception either.
Rajal Sharma
Monday, 27 January 2014
bankelal ki comics me hame kya chahiye ? comedy ! aur wahi cheez isme koot koot kaat bhari hui hai. purana swaad wapas mila. artwork to bahut he mast kahskarke.page 28/ very goodd jbo
Tadam Gyadu
Friday, 24 January 2014
Bankelal ko continue Karen k chaakar me bankelal ka status low Ho gya lgta hai. Story achi thi par artwork me utna dum nhi tha.
deepakrapotra
Friday, 24 January 2014
bankelal ne hume hasane mei koi kasar nhi chhodi hai. sushant aur basant ka wok sarahniye hai. good comic. zaroor pade.
Atul
Thursday, 23 January 2014
Bankelal, Raj Comics me comedy comics ka sabse aham kirdar hai to zahir si baat ha iski comics me comedy ka doze hona chahiye......Takbak story wise dekhi jaye to achhi hai but comedy ke naam par bahut hi week hai....bankelal ki ye comics comedy ke bajay suspense story zyada lagti hai... bankelal ki comics me comedy par dhayan dena zaroori hai
Mukesh Gupta
Wednesday, 22 January 2014
The story of the comics is good as usual. Sushant ji ka artwork bahut hi shaandar hai. This is overall a good comics.
Prashant Rawat
Tuesday, 05 November 2013
Comics ho to aisi.
Uttam Singh
Tuesday, 01 October 2013
बांकेलाल का यह हास्य विशेषांक तरुण कुमार वाही –अनुराग कुमार सिंह द्वारा लिखा गया है! कहानी का सार कुछ यूं है- सभी भक्त अपने ईष्ट से हमेशा कुछ ना कुछ मांगते ही रहते हैं..भक्त अगर बांकेलाल जैसा हो तो भगवान् भी हमेशा चौकन्ने रहते हैं! इस बार कहानी में पंगा यह डाला गया है,कि शिवजी सामने से आकर बांकेलाल को विक्रम सिंह को मारने की युक्ति बता रहे हैं! इसलिए बांकेलाल अति प्रसन्न है! यानी इस बार बांकेलाल की जीत के अवसर पूरे हैं! कहानी में खलनायक है तकबक “नाम” का एक इच्छाधारी सर्प! यानी यहीं वो चाबी है जो विक्रम की मौत के दरवाज़े का ताला खोलेगी! # क्या तकबक विक्रम को मार सका? # शिवजी ने आखिर बांकेलाल को ऐसी योजना क्यूँ बताई?क्या उन्हें आखिर बांकेलाल पर दया आ ही गयी या फिर छुपा है कोई रहस्य? #क्या इस बार बांकेलाल को शिवजी का आशीर्वाद मनोवांछित फल दे पाया? इन सवालों के जवाब आपको कहानी में मिलेंगे! कहानी शुरू होते ही रफ़्तार से भागती है! पेज-3 पर ही बांकेलाल अपनी योजना शुरू कर देता है जो आखिर तक तकबक-विक्रम का आमना-सामना होने तक बनती रहती है! यानी चाल दर चाल! कुछ चीज़ें जो हमेशा की तरह हर कहानी जैसी इसमें भी डाली गयी है..वो हैं...मरखप का बांके की जासूसी करना,महल में फैला भ्रष्टाचार,मंत्रियो की करतूतें,रानी स्वर्णलता की बे-सिर पैर बातें और विक्रम का बांके पर हमेशा की तरह अटूट विश्वास! क्यूंकि कहानी सिर्फ तकबक के विक्रम को मारने वाले पहलु पर ही घूमती है,इसलिए इसमें दूसरा कोई अतिरिक्त छोर कहानी के साथ नहीं जुडा मिलता है! कहानी के एक तरफ से आरम्भ होकर बिना कहीं भटके दूसरी तरफ अंत आ जाता है! किरदारों की बात करी जाए तो बांकेलाल और विक्रम सिंह ने खुद को दोहराया ही है,दोनों के सभी संवाद और सीन हमेशा से चलती आ रही कहानियों जैसे ही हैं..कई बार पाठक खुद ही जान जाते हैं कि दोनों का अगला रिएक्शन क्या होगा! भगवान् शिव और तकबक के सभी सीन जानदार बने हैं..और कहानी का अकेला आकर्षण हैं! हास्य के मामले में कहानी साधारण रही है! इसमें चुटीले संवादों और मसालों की कमी दिखी! लेखको को हास्य पर और ज्यादा ध्यान देना चाहिए! 40 के मूल्य में कहानी अगर हंसा ना सके तो सब व्यर्थ लगता है! बांकेलाल की कहानी से सबसे ज्यादा उम्मीद यही रहती है कि वो पढने वालो को कुछ अच्छे मनोरंजक पल दे जाए! चित्रांकन- सुशांत पंडा जी द्वारा बनाया गया चित्रांकन है जो अच्छा बन पड़ा है! भगवान् शिव और तकबक पर किये गए प्रयास अच्छे हैं..बाकी सभी हमेशा जैसे ही है! पेज-6 का प्रथम फ्रेम कमाल का लगता है,जब बांकेलाल मरखप की उंचाई तक आने की चेष्टा कर रहा है! इसके अलावा भूमिगत महल के अन्दर के दृश्य भी रेखांकित करने लायक हैं! इंकिंग “फ्रेंको” की और रंग संयोजन बसंत पंडा जी का है! टिप्पणी- तकबक अति उल्लेखित होने लायक नहीं बन पाई है...लेकिन एक औसत विशेषांक कहा जा सकता है! इसका सिर्फ बांकेलाल के षड्यंत्रकारी जीवन में एक पन्ना और जोड़ने तक का ही महत्व है!
YOUDHVEER SINGH
Wednesday, 11 September 2013
bankelal rocks in this comics
manoj
Monday, 09 September 2013
good one.
cool_dude
Monday, 09 September 2013
Banke ke karname hamesa lotpot karte hain. Hehehehehe
yashpal
Sunday, 08 September 2013
Review – Takbak New set me aur koi aaye ya na aaye par banke ki comic aapko jaroor milegi. Pichle kuch samay se banke ki comic kafi achhi aa rahi h, stories ka treatment,taste 2no me hi tazzgi ka feel liye huye. Par esbar Takbak me esa kuch nahi h. Ye purane wali comics ki jaisi hi h jinme bas ek regular base par puri comic tiki hoti thi. Wese to banke ki mostly comics esi pe based h ki banke vikram singh ko marne ka plan banta h aur last me fail ho jata h. Par last kuch comics me treatment alag tha,kind of fresh. Es comic me v banke vikram singh ko apne jaal me fasa kar uski maut,Takbak, ko uske pichhe laga deta h. Aur es bar ye idea v banke ko Shiv jee ne khud diya h matlab es bar to motte ki maut pakki hi samjho. Ye ho pata h ya nahi, uske liye comic padhiye. Comic ka start bahut hi achhi tarah se hota h par 6 pages k baad kahani usssi track pe aa jati h jispe hum na jane kitni comics padh chuke h banke ki. To yaha se kahani me kuch v naya padhne ko nahi milta h. banke eklota esa character hoga,jiski comics me sabi ko pata rahta h ki end kya hoga :D Comic me sabse achha role h Bhagwan Shiv ka. Unka role Hai to kuch hi pages me par jitna v h,wo mast h. Kah sakte h ki es comic k hero wahi h. Beech k pages me v shiv jee aur takbak ka ek sequence h jo hasne par majboor karta h. Eske alawa story me koi dum wali baat nahi h,wahi purani banke ki typical stories jaisi h. Comic ka plus point h eske dialogue(specially Shiv jee k). Banke ka markhap ko challenge karna, takbak & shiv jee wale dialogue etc. Jyada to nahi h par jitne h wo achhe h. Comic me sanwwad(baat cheet) kafi kam h, means padhne k liye jyada kuch nahi h. Esa lagta h mano writer ko thoda sa alas aa gaya tha es time :p (joking). Esko comic ka weak point v kaha ja sakta h. Overall story me koi dum nazar nahi aaya es bar,bas kuch jagah par dialogues achhe h jo hasne par majboor kar dete h. Artwork – Artwork ka to ab kya kahu, Sushant jee ne banke par maharath hasil kar li h. Artwork achha h,banke ki comedy stories/comics ko puri tarah se suit karta h. Artwork k liye aur kya kahu,b har bar ek hi baat bolne ka kya fayda :p Banke ki comic me sushant jee ka naam ho to samjh lo artwork achha hi milega. Coloring- Coloring achhi h,halanki last kuch comics ki tulna me halki h but still nice. Colors thode fikke lag rahe h, ya yah kah lijye ki shining nahi h. May be printing ki wajah se ho, don’t know. Overall an average comic, nothing special nothing new. Go for it if you are a die hard banke fan. Story - 2.5/5 Artwork – 4/5
Deepak Pooniya
Wednesday, 28 August 2013
pichhle kuch samay se jo bankelal me kuch hat kar stories aa rhi hai ye bhi usi kadi me shamil hai. padh kar bahut maza aaya. iska artwork aur coloring me sushant ji aur basant ji ne poori jaan laga di hai.
bhom
Wednesday, 28 August 2013
comedy ka full doz thi ye comics. bankelal ko is baar shiv ji ne khud hi sapne me aakar mote ki mrityu ka rahasy bata diya. yani is baar to uski yojna fail honi hi nahi thi. par banke ka durbhagya ne isbar bhi pichha nahi chhoda. bechara bankelal kabhi kabhi uspe taras aata hai aur man karta hai yaar ek baar ke liye maar hi do muchhad manhoos ko.
natwar
Wednesday, 28 August 2013
mast comics thi. padh kar bada maza aaya. story me takshak aur raja parikshit wali story ki taang todi gayi hai jo bahut mazedar tha.
virus