SARVDAMAN

Email
Printed
SARVDAMAN
Code: SPCL-2551-H
Pages: 96
ISBN: 9789332422476
Language: Hindi
Colors: Four
Author: Nitin Mishra
Penciler: Dheeraj Verma
Inker: N/A
Colorist: Bhakt Ranjan
Paper: Glossy
Condition: Fresh
Price: Printed
Rs. 120.00
Add to wish list
Description सर्वदमन # 2551 हर युग में मानवता पर मंडराया है भयानक खतरा! सतयुग, त्रेतायुग, द्वापरयुग और कलियुग के सभी महानायकों का एक दिव्य महाशक्ति युगम ने कर लिया है हरण और उन्हें बांट दिया है दो दलों में! एक दल में हैं सतयुग, त्रेतायुग, द्वापरयुग के महानायक और दूसरे दल में हैं कलियुग के महानायक! दोनों दलों के महायोद्धाओं के बीच होंगी अनूठी प्रतिस्पर्धाएं और जो भी दल जीतेगा उसका ही युग ब्रह्मांड में अस्तित्व में रहेगा, दूसरे दल का युग हमेशा के लिए मिटा दिया जाएगा! प्रतिस्पर्धाएं शुरू हो चुकी हैं, रक्षक ही लड़ रहे हैं रक्षक से! इन खूनी लड़ाइयों के विजेता ही बचा पाएंगे अपने लोगों और अपने युग को! अति रोमांचक, रोचक और अनोखा होगा ‘एक युद्ध- एक युग’ नामक देवताओं का रचा यह रहस्यमयी महारण!
Paperback Comics/Books that are parts of same Series
Collector Editions that are parts of same Series

Reviews

Wednesday, 01 October 2014
Kahani ka star badhta hi ja raha hai. Aur bhi behtar aur romanch se bharpur. Artwork me baki sab sahi hai bas aaj ke heroes ke huliye hi bigad gaye hain. Nagraj aur Bhokal ki fight kam thi. Baki aadhe se jada aur last tak sirf Parmanu aur Prachanda ki hi fight hai. Shayad ye comic inhi dono par focus ki gayi hai. Baki kab ladenge? Kya ye series wakai itni lambi jane wali hai. Sare heroes aur villians ka mela lag raha hai. Good going !!
Rahul Bhandari
Friday, 12 September 2014
It could be awesome, if artwork was half as good as plot. Dheeraj ji is an expert artist, but now and then with Raj Comics he turns careless. Some pages of this comic are exceptional while the others are just like 'get out of my sight'. I want him to keep drawing for RC but not this way. He should assemble with someone, an inker, who can give his artworks great finish. Let's talk about the story, Awesome. But Raj Comics has always been bad with the facts. Like 'Seven Trillion'(saat kharab) population of the world got mentioned in this series which was better suited to be Seven Billion. On the other hand, I don't understand why at the sudden the superheroes change their behavior... like "Shakti" threatening "Dhruv" as she doesn't even know the abilities of Dhruv. I have read Kaliyuga, all multi-starers of Dhruv-Shakti, she has always been admirer of him. I'll recommend not to change 'Tum/Aapko' into 'Tu/Tujhe' every time a fight happens. PS: Loved the blend of softcore science into the plot.
Gaurav Tiwari
Monday, 08 September 2014
sarvnayak series bahut achhi ja rahi hai. me sabhi comics 3-3 bar padh chuka hun.
rohitlal
Friday, 15 August 2014
Well Overall the comic was good but not as much as the previous one. Note : The review is to Highlight the negative points so as to improve upon it rather than positive points.No hard feelings , I just want to see RC much higher with their comics at full glory in the Sky. Positives : Overall it was a fine comic .Other People r praising the things ,I want to focus on the weakness of it So no more words for praises. Negatives : 1)Artwork.The effects coloring all behind the scenes were all awesome,but the actual artwork...No, such a big series for RC is just going down bcz of its Artwork,Not only its weak neither lies the originality of various characters. Need to do something with the same .The Artwork ruined most of the comic.Bcz it reflects the overall presentation of the Comic. 2)Nagraj vs Bhokaal being over hyped doesnt lived upto the stantdards,was short & yes the artwork ruined it,will not be repating again but the same could have felt better if artwork would have better. 3)Humour/Comical acts being performed by various charac. wernt good neither their dialogues . 4)Dialogues esp. on fight b/w parmanu n shakti n others were also poor.Remember RC they r superheroes.Live upto with them with their standards,they cant say such cheesy stuffs. Characterization is the most imp. part of any story and for that dialogues are v. imp part to bring out the epicness of the Heroes but here they looked like childish fools etc.Remember its the characterization which brings them out.Such Dialogues showed the work was Hastily done & much importance wasn't shown on side-things going on in the story. 5)Anthony defeating Sadham & same was almost done by Pret-Uncle in just one act against such a power-full Villain was something Odd which wasn't accepted by the Brain. I think its the Artwork which needs to be improved as well the Comical part of the story with certain Dialogues esp. of the minor parts of the story needs to be improved. In Grand scheme of things some times same can be overlooked but we are here just to tell you what you missed,so that you can be better & we happy.
Ojasvi Mathur
Monday, 04 August 2014
G... ANOTHER 'WOW' WORK! This series is going so well, so very well. Lovin' it. This time almost all heroes and villains are joining hands in a book but even after that the story is balanced. After reading one page the excitement for reading the next goes crazy. HERE COMES PAPA FAIRY! Anthony and Adig ganked the spotlight from all others. Adig is easily defeating 'Sanyukt Shakti' of all heroes and I am waiting for Dracula vs Jinda Murda. Anthony also must join the Sarvnayak competition, ME THINKS!. Nagraj vs Bhokal was good fight but that fight didn't get enough pages. But it's actually like neither Bhokal won nor Nagraj... it's SCDhruv won that fight. And I have a strong feeling that SCD will find a way to defeat Yugam. As you know other heroes are SHRESTHA but SCD is always UTTAM with his mind... SARVOTTAM! Other cool competition is between the two Ps... Prachanda and Parmanu. Both tried so hard to defeat each other but both also saved each others lives. This fight got enough pages and the best thing is that the competition isn't over... may be in next part we will see the final battle as the current result is still 2-2. And Parmanu prooved that even the Gods power isn't beyond science. I want to see Parmanu's win. SO, RISE UP FOO! Shukraal... this character is also interesting for me and he looks so powerful too. I dind't know anything about him before and never read any comics based on this characer. Artwork is perfect that when I was reding this book... It was like I am watching a movie. All scenes were running just before eyes. I'm down for the second part. BRING IT ONNN! Reader: SWAPNIL DOGA DUBEY!
Swapnil Dubey
Tuesday, 29 July 2014
Story is good and very creative . It is a new idea to gather all superheroes in one series.I am waiting for sarvsangram .
Rhythm Dubey
Sunday, 20 July 2014
story plot is average.........nagraj aur bhokal ki fight ko aur acha banaya ja sakta tha........unke fights mein dialouges bhi kam the......dono ki fight not upto the mark........parmanu aur prachanda ki ladai thik hai but achi nahin......un dono ki hi chaaron fights ko complex banaya gaya hai......saath hi jaan bujh kar parmanu aur prachanda ki fights ko kicha gaya hai,,,,,jo ki iss comics mein khatam kiya ja sakta tha..........prithvi par adig ka role acha hai......comics ka ending thik hai.......dracula ki entry achi hai........story is average.......artwork is below average.........parmanu is good.....prachanda is average......adig is very good..........anthony is good.......nagraj,dhruva,bhokal and shukral impressess you........average comicssss............
amrit kumar
Monday, 14 July 2014
In this comics role of Prachanda and Parmanu is good on he other part Adig is undefeatable but the best part or the highlight of this comics is the scenes between Doga and Bheriya but loose point was carrying many suits in belt by Parmanu
PITAMBER RAM
Saturday, 28 June 2014
जैसा कि हमने सर्वयुगम की समीक्षा में कहा था..कि कहानी शुरूआती हिचकोले खाती हुई अपने अंतिम अध्याय पर जाकर स्थिर हुयी है...तो कहानी वही से आगे बढती है...जिसका पहला पन्ना है- प्रस्तावना-मुर्दों का मसीहा- इस अध्याय में दिखते है....प्रेत अंकल वाले इरी के "डिस्ट्रीक्ट की गुफा में हुल्लड़" मचाते सधम...जिसको रोकने में लगे एंथोनी पर पड़ती है, "काउंट" ड्रेकुला की लात!(जो की ताज़ा ताज़ा आया है सभी सिग्नल तोड़-ताड़ के...नर्क वाली गर्लफ्रेंड छोड़ छाड़ के) 2 पन्ने शुरू में 2 पन्ने अंत में.. अध्याय खत्म प्रथम अध्याय-प्रथम पराजय- कहानी सर्वयुगम में जहाँ भोकाल-नागराज के द्वंद पर रुकी थी..वहीँ से आगे बढती है...क्यूंकि "भोकाल का कवच गुलाबी...नागराज की चड्डी गुलाबी! मैं भी गुलाबी....तू भी गुलाबी...ग्रह भी गुलाबी..गुलाबी यह कहर!! ऊपर से एक-दूसरे को कूटने और दिल से मोहब्बत के नगमे गुनगुना रहे और एक दूसरे को पटका-पटकी में हराने की जद्दोजहद में एक नायक को विजय मिल ही गयी! यह भाग पूर्वकाल और पश्चात काल के वीरों के बीच के आपसी मतभेदों को खुलकर सामने लाता है!सभी एक दूसरे से असहमत दिखते हैं!(मैं परेशान..परेशान...परेशान...रंजिशे हैं जवां) इसी भाग में परमाणु और प्रचंडा के बीच 5 चरण लम्बी प्रतियोगिता भी शुरू होती है! द्वितीय अध्याय-मृत्यु से परे(भाग-1) 20 पन्नो का यह अध्याय अडिग पर केन्द्रित है....जिसमे वो पिछले भाग का अपना काम यानी..पाषाण राक्षसों से लड़ रहा है...जिसके बाद विस्तृत ब्रह्माण्ड रक्षक उससे द्वंद करते हैं! कुछ नए सुपर विलेन भी इस भाग से कहानी में जुड़ते हैं!(जो की जीने लगे हैं पहले से ज्यादा) द्वितीय अध्याय-मृत्यु से परे(भाग-2) 3 पन्नो का यह अध्याय महामानव के लिए है...जो बहुत रहस्यमयी वातावरण में नज़र आया है! तृतीय अध्याय-पंच तत्व परमाणु- 30 पन्नो के इस अध्याय में परमाणु और प्रचंडा के बीच 3 प्रतियोगिता होती हैं...और विजेता के बारे में जानने के लिए यह भी कम पड़ गया है...अब इन दोनों में "धतिंग नाच" करने का मौका किसको मिलेगा इसके लिए आपको अगले अंक का इंतज़ार करना पड़ेगा! परिशिष्ट अध्याय- 1 पन्ने के इस अध्याय में पता चलता है..कि भोकाल के मित्रो और भेड़िया के दुश्मनों के बीच लड़ाई शुरू होने वाली है! (क्यूंकि बरबादियाँ...मीठी लगे आज़ादियाँ) इस पूरी कॉमिक्स में मुख्य बात परमाणु और प्रचंडा के बीच लड़ाई को दिखाना है...लेखक द्वारा दोनों को यथासंभव बराबर का मौका दिया गया...दोनों की कमियां और खूबियाँ सामने रखी गई! कई जगह युगम के असली मकसद की झलक दिखती महसूस होती है...कि यह सभी प्रतियोगिताएं सिर्फ अपना युग बचाने के लिए नहीं अपितु इनका मकसद कुछ और भी है! ध्रुव,नागराज और बाकी नायको के हिस्से में थोडा बहुत ही काम आया है...जो काफी था! इसके बावजूद यह अभी से नज़र आने लगा है कि पूरी सर्वनायक प्रतियोगिता पहले से फिक्स है...जैसा कि शुक्राल और ध्रुव को अंदेशा है!(लोचा ऐ उल्फत हो गया)..पर यह फ़िक्सर है कौन यह अभी धुंधला है(खुदा खैर है)...जहाँ इस कहानी को पूर्णतया ईमानदार और सिरियस तरह से दिखाया जाना चाहिए...वहां पेज-28 जैसे दृश्य मिलते है...जो कि हास्य हिंडोला स्टाइल में कहानी का मज़ा किरकिरा करते हैं! यह विश्वास के काबिल बात नहीं है कि परमाणु और शक्ति जो की लगभग 15 से ऊपर 2 इन 1 और मल्टीस्टारर में नज़र आ चुके हैं....वो एक दूसरे को अपनी शक्तियों से प्रहार करके अवगत करना चाहते हैं!(खामखाँ) Sugar Daddy बना नागराज अपना एकल निर्णय सुना देता है...और टीम का सबसे कमजोर हीरो तिरंगा सबसे पहले सहमत हो जाता है! (जबरदस्त कॉमेडी) कहने का तात्पर्य यह है कि सभी हीरोज़ के आपसी व्यवहार में पहले आई कहानियों को देखते हुए सरलीकृत दिखाए...ना की बनावटीपन! कहानी कुछ प्रश्न छोड़ जाती है...जो शायद आगे पता चले इसलिए फिलहाल उनपर बात करना बेकार है! बात दोबारा कहानी के पात्रो पर लाई जाए! परमाणु को आयरन मैन की तरह voice Activated Perforater-16 सूट मिलना..और body एक्सपेंशन पॉवर का दोबारा प्रयोग सिद्ध करता है..कि नितिन जी ने पहले पावर्स दे दी हैं..वो भी परमाणु की उन् कहानियों में जो कभी पब्लिश नहीं हुयी और बताया पाठको को बाद में है...यह उनकी लेखन शैली की एक नकारात्मक बात है! अगर देखा जाए तो आयरन मैन की तर्ज़ पर परमाणु को शक्तियां बांटी जा रही हैं...लेकिन यह भुलाया जा रहा है कि "परमाणु" विज्ञान की शक्तियों पर आधारित हीरो है..और विज्ञान की एक सीमा रेखा तय होती है..जिसको पार करा जाए तो वो पराविज्ञान कहलाता है...और कमोबेश परमाणु उसी रास्ते पर चलता नज़र आ रहा है! आप कैसे इस बात पर भरोसा दिला सकते हैं...कि परमाणु एक छोटी सी पुडिया में पहले Perforater-16 जैसा ऐसा सूट रखे हुए आया है...जो expand करने पर पूरे शरीर को इतनी मोटी परतों में घेर लेता है..जो धरती के कठोर घर्षण के साथ-साथ उस गुरुत्व बल का वेग भी झेल जाएगा जो सतह से नीचे जाने पर लगता है! इसके बाद दोबारा परमाणु ऐसी ही एक और पुडिया में से Anti-Lava Suit भी निकालता है...जो दोबारा expand करने पर लावे की गर्मी झेल जाता है...वो भी तब जबकि परमाणु ने अपने सिर,पेट और जांघो को नहीं ढका है! कुल मिलाकर कहा जा सकता है...कि प्रचंडा के सामने परमाणु तिनके के समान ही था...मगर बेईमानी भरी शक्तियों का दोहन करके वो मुकाबले में खड़ा नज़र आता है!(क्यूंकि मम्मी को नहीं है पता) महामानव को 2 पन्ने इस भाग में देना कहानी में कोई प्रभाव नहीं छोड़ता..(वो यही कह पाया कि इस 2 पन्नो की सुनसान रात में हम...हवन भी कैसे करेंगे) उसको आगे के भाग में बड़े स्तर पर लाया जाना चाहिए था! कहानी में एक्शन काफी है..इसलिए इवेंट्स कम हैं! जिस वज़ह से शायद लेखक में कई किरदारों को बीच बीच में फिट किया है! लेकिन इसकी वज़ह से कहानी की रफ़्तार पर बहुत असर पड़ता है...आप पढ़ते हुए हर चीज़ का पूरा मज़ा नहीं ले पाते...क्यूंकि जैसे ही एक जगह पर मज़ा आने लगता है..वहां पर दूसरे इवेंट को शुरू कर दिया जाता है. उदाहरण के लिए- 1-परमाणु-प्रचंडा की प्रथम लड़ाई जो 38वे पन्ने पर ख़त्म होती है...उसका निष्कर्ष आपको 63वे पन्ने पर मिलता है..बीच में बड़ा लम्बा गैप है! 2-अडिग और किरीगी की लड़ाई भी एक USP बन सकती थी..जो अधूरी रह गई! वैसे कहानी के Dialogues बहुत शानदार लिखे गये हैं...युगम ने माहौल को हल्का फुल्का बनाये रखा...वहीँ परमाणु ने भी उसके साथ अच्छे शब्द बांटें!...कहानी अब रफ़्तार पकड़ चुकी है...लेकिन अच्छा होता कि प्रचंडा-परमाणु संग्राम का पटाछेप इसी भाग में कर दिया जाता! 4 प्रतियोगिताएं जो अब तक हुई हैं...वो काफी असरकारक थी..बेहतरीन जगहों का चुनाव लेखक ने किया...शानदार तरह से दोनों ने अपनी जोर आजमाइश करी! आर्टवर्क- सर्वयुगम की तुलना में सर्वदमन का आर्ट थोडा सुधरा जरूर है...लेकिन इसमें धीरज जी का कोई विशेष प्रयास नहीं है...उनका काम पहले की तरह ही है!.. इसको विश्व स्तरीय आर्ट नहीं कहा जा सकता जिसकी उम्मीद हर कोई कर रहा था! सिर्फ किरदारों और बैकग्राउंड की आउटलाइनिंग करी गयी है..बाकी काम और मेहनत करी है...colorist भक्त रंजन जी ने...जिन्होंने यथा संभव पेंसिलिंग को संभाला है...खैर इतना तय हो गया कि बिना इंकिंग का आर्ट धीरज जी को सूट नहीं करता है! उम्मीद है आगे सुशांत जी शायद इस सीरीज को नयी ऊर्जा देंगे ! अगर इस कॉमिक्स का कोई चित्रकार है तो वो भक्त रंजन हैं! नीरू जी का शब्दांकन है! सर्वदमन में आपको दमनकारी आर्ट तो नहीं मिलेगा..और ना ही कहानी में कोई असाधारण चीज़ मौजूद है...सिवाय परमाणु और प्रचंडा की लड़ाई और कुछ भूले-बिसरे किरदारों की मुहं दिखाई के अलावा! इस बीच के हिस्से को कहानी के साथ चलने दीजिये! अगले अंक के इंतज़ार में इतिश्री!
YOUDHVEER SINGH
Wednesday, 25 June 2014
The second(or third) segment in the Sarvnayak series doesn't disappoint at all. The story moves forward to the first clash among the Nayak's and the sequence is beautifully executed. Nagraj and Bhokal, Parmanu against Prachanda was skeptical at first but appears it was just perfect. But the icing on the cake is 'Yugam'. The centre of the Sarvnayak series and the most interesting character. I'm certain it is not as straight as it appears. The choice of battles between the Heroes is subtle and not simple.Apparantly, Yugam has some hidden agenda that no one is aware of yet. Artwork was just average and slightly disappointing at times. The fight sequence between Parmanu & Prachanda were good, however some of the heroes and the allies on earth looked awful. Artwork needs attention or it could spoil the taste of a brilliant story.
Ankur Kaushik
Tuesday, 24 June 2014
भैया जैसे राज ही नागराज, सूरज ही डोगा, विनय ही परमाणु और भारत ही तिरंगा है, वैसे ही ये कॉमिक्स एक बड़े रहस्य से पर्दा हटाती है की संजयजी ही युगम है पर लेखक ने यहाँ भी उन्हें वही पुराना काम सौंपा है सर्वनायकों को अपने इशारों पे नचाने का..!! पता नहीं ये नितिनजी की परिकल्पना थी या धीरज जी की पेंसिल का कमाल... पर कुछ भी हो ये किरदार बड़ा जानदार शानदार बन पड़ा है इससे और काम लेना चाहिए और निखारने की जरुरत है...!! इफेक्ट्स बहुत अच्छे हैं पर कहीं कहीं चित्रों में धीरज जी पर डेडलाइन पुरी करने का अतिरिक्त भार साफ़ दिखाई देता है ! किसी को उनका भार कम करना चाहिए ! एक बात समझ नहीं आई की वो कौन सी तकनीक है की परमाणु अपने सूट सूक्ष्म करके जेब में रख लेता है, इसका पेटंट कराकर यदि अमरीका को बेचा जाये तो नागराज डोगा ध्रुव सबकी फिल्में बनाने का बजेट इसी से पूरा हो जाए :) वैसे इंस्पेक्टर होते हुए भी परमाणु साहब की विज्ञान की समझ कमाल की है भारतीय पोलिस को उनसे सीखना चाहिए...!! एक साथ सभी नायकों को देखने का हम सब का सपना पूरा करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद और शुभकामनायें..!! छा गए नितिन भाई, ऐसा तो कभी अनुपमजी भी नहीं कर पाए...!! :)
Rex
Saturday, 21 June 2014
As many of my friends have commented earlier, the story is good. It is indeed a challenge to bring together heroes and villains spanning across eras. However, the story is now turning a bit too complex and the next issue must start providing some answers. The artwork is not only disappointing, its downright lazy. No background at all, just a layer of mixed water paints - not even a leaf has been properly drawn!! RC, if you are about to continue this pathetic artwork, bring out a novel. No images required.
Shobhit Dixit
Thursday, 19 June 2014
Story is indeed good as my friends mentioned earlier its must be difficult to take every possible character in RC and merge them in the story. Artwork is clearly not satisfying detailing is missing on many occasion. Clearly better can be done hope to see an improvement in this phase and answers to unsolved riddles
Mayank Mishra
Wednesday, 18 June 2014
Story: Kahani ki jitni tarref ki jaye km hai. Raj universe k almos sabhi characters ko lekar ek story likhna sach me bahut hi mushkil rha hoga, lkin Nitin ji ne ya kamaal kr dikhaya hai.... Kahani me abhi bhi aise kisi bhi sawal ka zaab nh diya gya h jo Sarvyugam me khade hue the balki kai naye sawal aur curiosity zaroor bn gaye hain... Sbse bada rahsya to Yugam aur Adig hain.... Ye poora issue Prachanda aur Parmanu k naam raha... Dono k bich k scenes bahut hi achhe likhe gaye hain... Story har character k liye balanced chal rhi h... Adig ke bare me ek baat zarur kahunga ki ab RC universe me ek aisa character zaroor aa gya h jo HULK ko v takkar de sakta h... isa kbhi hoga to nh lkin HULK aur ADIG ki fight gajab ki ho skti h.... Anthony ki shandar entry se lagta h ki series ka agla part Sarvsangram aur v jyada dhamakedaar hone wala h.... Ek chij jo nh honi chahiye thi, wo ye ki SCD ne Nagraj ko mansik sanket bheja, plz SCD ko aisi powers mt dijiye jo use Aam insan na rhne de, Dhruv ki sabse badi khasioyat yhi h ki usne ek Sadharan insan hote hue v Asadharan kaam kiye hain... plz use supernatural/Yogik power de kar use SUPERHERO mt banaiye, use sirf HERO hi rhne dijiye... Artwork: Artwork Sarvyugam ke mukable kafi behtar hua h lkin av v is grand series k level ka nh hi lgta h,lkin iska reason samjh me nh ata kyuki Dheeraj Verma ji to International artist hain, unki penciling to world class hoti h.. Bhakt Ranjan ji k coloring effects me to koi kami nikal hi nh kta.. shayad inking na hone ki wazah se aisa h.... Action sequence banane me Dheeraj ji ka koi zawab hi nh, unka art angle to gajab ka hota h e.g page#8, panel#4 of page#10, page#12, 2nd panel of page#13, 2nd panel of page#21, 2nd panel of page#23, 1st panel of page#34, whole page#36 & many more... ye sare pages Dheeraj ji k shandar kaam ko dikhate hain.... Love you Dheeraj ji..... others: Page quality aur binding v kafi achhi rhi, i personally like paperback binding which give a better feel... one more thing to mention & may be the most important - this book offers 94 pages of pure entertainment in just Rs.90, it means per page costs even less than 1 rupee... thats more than worth... thank u RC for keeping the rate very low....
Ashish Kushwaha
Saturday, 14 June 2014
Deeewana bana diya. Kya shandar chal rahi he ye kahani. yugam aur sabhi hero, JUST Outof the world.
rushil
Friday, 13 June 2014
story &artwork is good mujhe comics padte hue laga jese main alag duniya main punch gaya hooo best part of series
manoj
Sunday, 08 June 2014
really this comics can give super hit picture.story is going very systematically.all the parts are nice......must read comics.gret work RC
RUPAM KALITA
Saturday, 07 June 2014
kafi samay ke baad sarvdaman aayi aur kafi had tak kahani me romanch paida kar diya isliye sarvsangram ko release kare.
Mohd aqleem
Saturday, 07 June 2014
सबसे पहले तो मैं नितिन मिश्रा जी को अपने स्थान से खड़े होकर तालियाँ बजाते हुए उनको बधाई देना चाहता हूँ की उनके लेखन से काफी समय बाद इतनी मज़बूत और रोमांचक सीरीज आई है जिसमे राज कॉमिक्स के लगभग सारे सकरात्मक और नकरात्मक किरदार भरे हुए हैं, इन सभी किरदारों को उनका उचित स्थान देते हुए कहानी लिखना कोई सरल कार्य नहीं है. सकरात्मक बिंदु. 1.कॉमिक्स में एक ऐसे विलन की रचना करना जिसपर भोकाल की तलवार,नागराज की सर्पशक्ति और योद्धा की ढाल तक बेअसर है.ये कॉमिक्स में नायको की दक्षता को और परखता है. 2.शक्ति और परमाणु की बहस और डोगा और भेड़िया के बीच के दृश्य. 3.शुक्राल का रणनीतिकार के तौर पर उभरना. 4.नागराज और भोकाल के सधे हुए एक्शन दृश्य. 5.एंथोनी का आगमन और उसकी सधम से लड़ाई 6.प्रचंडा और परमाणु के बीच की प्रतियोगिता जो सिर्फ शारीरिक स्तर तक ही सीमित न होकर बौद्धिक और नैतिक स्तर का भी आवलोकन करती है. 7.परमाणु और प्रचंडा की एकदूसरे को बचा अपने असल नायक या सुपर हीरो होने का प्रमाण देना. 8.कथा और प्रतियोगिता के माध्यम से पुरातन वैदिक कथाओ और मान्यताओ को कॉमिक्स प्रेमियों के समक्ष प्रस्तुत करना. 9.किरगी और अडिग का युद्ध. 10.मनीष जी का हर किरदार को सही स्थान देने का कठिन संपादन. नकरात्मक पहलू 1.चित्रांकन में वो जान,पैनापन और तीक्षता नहीं है जो इतनी 'भव्य'एवं `महाकाव्य' सीरीज में होनी चाहिए, यकीन मानिए चित्रांकन बिलकुल अच्छा है लेकिन थोड़ा और भव्य और पैना हो सकता था, चित्रांकन में `जल प्रभाव' की थोड़ी अधिकता है,मौखिक भाव थोड़े और तीक्ष्ण होने चाहिए थे,पृष्ठभूमि यानि बैकग्राउंड पर थोडा अधिक ध्यान दिया जा सकता था. 2.एंथोनी के कैद होने की कहानी पर कोई प्रकाश नहीं डाला गया. 3.अधम कहाँ है कुछ बताया नहीं गया,जबकि अधम को सधम को रोकने होना था. 4.क्यूँ ध्रुव और शुक्राल अपने नायक की हार चाहते थे इसका कोई उत्तर नहीं दिया गया. 5.ध्रुव को रणनीतिकार दिखाया जा सकता था,नहीं दिखाया गया. 6.अडिग का नायको पर ख़ास तौर पर किरगी पर भारी पड़ना कुछ अटपटा सा लगा जबकि किरगी महामानव तक को टक्कर दे चुका है. 7.युग्म की शक्तियां और उसका मकसद अभी भी रहस्य है. मैं फिर से नितिन जी को प्रशंसा देता हूँ कि ऐसी कथा लिखना जिसमे इतना रहस्य, एक्शन, रोमांच और ज्ञान हो आसान कार्य नहीं है लेकिन आखिर नितिन जी ने एक वृहद् महागाथा की रचना कर ही डाली जो भविष्य में याद रखी जाएगी. 9/10
sachin dubey
Thursday, 05 June 2014
Story bohut achchi lagi...par artwork bohut bura.....pata nehi kyu Dheeraj Verma ji ka artwork low level ka hota ja raha hai...Plz Anupam ji ki art technique follow kare or atleast unse salah le pitures ke bare me....apke art 2D lagte he jabki Anupam ji ke art 3D and real lagte hai...plz improve it....
Tridib Deka
Thursday, 05 June 2014
युगम धरित्री अस्यः…………………सर्वनायक सीरीज की महागाथा का द्वितीय खंड "सर्वदमन" अब आपके सामने प्रस्तुत है और देखा जाये तो राज कॉमिक्स के इतिहास में सही मायनो में कोई शुद्ध मल्टीस्टारर सीरीज आई है........दुनिया में एक बहुत बड़ा खतरा मंडराया है और उससे निबटने के लिए सभी लड़ रहे हैं क्या सुपर हीरो, क्या साइड किक्स, क्या सुपर विलन .......कोई सवाल नहीं उठा सकता कि दुनिया खतरे में है और "वो" क्या कर रहा है? इसका प्रमाण है एक-एक कर आते जा रहे राज कॉमिक्स के पुराने भूले-बिसरे पात्र। ………… इस कॉमिक्स में हर वो चीज़ आपको मिलेगी जो एक रीडर पढ़ना चाहता है..... एक्शन, कॉमेडी, सस्पेंस हर प्रकार का मसाला डाला गया है। एक कॉमिक्स में 5 अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग घटनाएँ चल रही हैं जो शायद और भी बढ़ सकती हैं.…देखने में तो लगता है ये अलग-अलग कहानी का हिस्सा है पर कैसे वो सब घटनाएँ एक साथ जुड़ेंगी यही इस कहानी की रोचकता कॉमिक दर कॉमिक बढाती जा रही है। कहानी का सबसे मुख्य आकर्षण 'युगम क्षेत्र' में चल रही सुपर हीरोज़ की प्रतिस्पर्धा जो हर घटती घटना के साथ चरम पर पहुँच रही है, एक तरफ जहाँ एक-एक सुपर हीरोज़ एक दूसरे से जीतने के लिए के लिए अपनी जान की बाजी लगा रहा है वहीँ दूसरी तरफ दोनों टीमों में भी अंदरुनी प्रतिस्पर्धा चल रही है। ..........दूसरी तरफ पृथ्वी में सुपर हीरोज़ की गैर मौजूदगी में दुनिया को बचाने की कोशिश में किरिगी, सामरी, जिंगालु, पंचनाग जैसे योद्धा प्रयासरत है जिनके सामने अडिग नाम का एक रहस्य खड़ा है …… तीसरा इरी की गुफा में एक अलग घटना सर उठा रही है, महामानव एक रहस्यमयी जगह पर भटक रहा है और इधर आसाम के जंगलो में एक और युद्ध शुरू होने के कगार पर है। ………… इतने सारे घटनाक्रम चल रहे है जो उत्सुकता बढ़ाते जा रहे हैं .......... कई नए सवाल खड़े हो रहे हैं तो कई पुराने सवालो के जवाब मिलने की उम्मीद जग रही है। कॉमिक्स में आये पात्रों की बात की जाये तो सबसे पहले नागराज और भोकाल की टक्कर हुयी पर मुझे लगा थोड़ी जल्दी खत्म हो गयी ....... असली टक्कर का अभी इंतज़ार है। ....... सर्वनायक सीरीज की ये कॉमिक्स पूरी तरह से परमाणु और प्रचंडा के नाम रही दोनों को बहुत ही अहम और संतुलित रोल मिला है अगर इसी तरह सभी पात्रों का रोल रहने वाला है तो वाकई आगे बहुत मज़ा आने वाला है ...........दूसरी तरफ पृथ्वी पर अडिग तो सबका बाप, दादा, चाचा, ताऊ बना हुआ है किरिगी, सामरी, जिंगालु, पंचनाग को ऐसे धो रहा है जैसे धोबी कपड़ो को :P …… सुपर विलेन्स की एंट्री भी होने लगी है धीरे-धीरे ग्रैंड मास्टर रोबो, नगीना, मिस किलर सबसे अहम तिरंगा का विलन CNN का इस्तेमाल करना अच्छा लगा। …… प्रेत अंकल पहले से बहुत अलग दिख रहा है यहाँ एंथोनी के आगमन ने नया रहस्य खड़ा किया और आने वाली सीरीज का हिंट दिया। …… सधम और ड्रैक्युला की भी एंट्री हुयी इसमें कुछ हैरानी नहीं हुयी क्योंकि ये दोनों ही अपनी पिछली कॉमिक्स में कैद थे तो वापस आने की उम्मीद थी ....... मैं तो सोच रहा हूँ "महारावण" को कैसे लाया जायेगा। ……महामानव एक अलग ही रहस्य खड़ा कर रहा है जो शायद इस कहानी में ज़ोरदार ट्विस्ट लाएगा। तुरीन, शूतान, अतिक्रूर, तिल्ली, धनुषा को देखकर अच्छा लगा और सबसे अच्छा लगा वेणु और पीकू को देखकर .......भोकाल की "आखिरी निशानी" के बाद ये कहाँ गए इसका जवाब मैं कब से जानने को लालायित था ये सिर्फ मैं ही जानता हूँ। कुछ एक कमी भी है...... आजकल कॉमिक्स में सोचने वाले बलून्स की जगह कलरफुल बॉक्सेस ने ले लिए है इससे कभी कभी कन्फ्यूज़न हो जाती है की एक्चुअली में कौन सोच/बोल रहा है....... बॉक्सेस के कलर्स से पहचानना पड़ता है.......अब एक जगह शक्ति बोल रही थी और समझ में आ नहीं रहा था ये किसका डायलॉग है? ………"महामानव" कॉमिक्स में बताया गया है महामानव ने डायनोसॉर्स को ख़त्म करने लिए अपनी मानसिक शक्ति से पृथ्वी को बर्फ से ढक दिया था जिससे हिमयुग किस शुरुआत हुयी थी …… यहाँ महामानव खुद सोच रहा है की एक उल्कापिंड के गिरने के कारण हिमयुग आया था जिसको वो रोकना चाहता है ?? ये क्या चक्कर है?? हिम युग आना तो महामानव के लिए अच्छी बात है फिर वो इसको रोकना क्यों चाहता है? ऐसे और भी कुछ सवाल हैं। आर्टवर्क पिछली कॉमिक सर्वयुगम के मुकाबले अच्छा है पर फिर भी इस महा सीरीज के लिए जैसा आर्टवर्क होना चाहिए था वैसा नहीं है। कलरिंग अच्छी हुयी है। अगली कॉमिक्स सर्वसंग्राम से आर्टवर्क चेंज हो रहा है उम्मीद है आर्टवर्क की जो कमी महसूस हो रही थी वो दूर होगी। ….... अब सर्वसंग्राम का बेसब्री से इंतज़ार है।
Mukesh Gupta
Tuesday, 03 June 2014
The series is improving day by day... art is amazing and so is the story.... kudos to all involved...
Atush Rohan
Tuesday, 03 June 2014
SARVDAMAN Sarvnayak shandar log rah hai.artwork aaccha hai......
shrey pandey
Sunday, 01 June 2014
As always multi starers rocks. im a big fan of multies n sarvyugam prooves itself. Great plot n beautifuly executed. Thumbs up. now waiting for sarvsangram.
cool_dude
Sunday, 01 June 2014
Sarvnayak series shandar series ban rahi hai. prachand aur padmanu ki ladai bahut hi badiya bani hai. itte sare hero aur vilin ek sath dekh kar maja aa raha hai. sadham aur dracula ek sath wow.
amit singh
Sunday, 01 June 2014
Sarvdaman ne sarvyugam se achha pardarshan kiya hai. RC Anthony aur dracula ko jaldi lao. sarvsangram ko jaldi lao.
yashpal
Saturday, 31 May 2014
sarvadaman! raj comics ki is comic ka kafi arse se intzar tha. finally hath lagi hai. padhne ke bad i wouldn'tmsay that i am disappointed, but this could have been much much better. vaise comic achi hai aur padhne layak hai. most importantly it raises sufficient interest in the sense ki agle part ka intjar rahega. Story - is ki story pehle vale part yani ki sarvayugam se bhi jyada convoluted aur unnecesarily complicated hai. but it has the oposite effect - shuruat ka part interesting hai par end tak it becomes a mess. there are too many subplots here to count without a calculator, aur har pratiyogita ki alag backstory hone ki vajah se aur bhi jyada mushkil ho gayi hai. but that competition is also the best part of this comic. padh kar ke aapko maza aa jayega. baaki there are some unexpected arrivals, for both villains and heroes. but that does not meen that i agree with the treatment they have recieved. withou giving any spoilers, i will say that the villains don't have a good outing in this comic. kahani ka original premise i.e. the villains coming together to stop the threat in the absence of our heroes kahin hain hi nahi. i think ki writer nitin mishra khud hi bhul gaye ki unhe karna kya tha. saath hi saath svarg ke liye hone vale competition ka bhi koi jikra nahi.which is quite a shame because that was starting to get interesting. Artwork - artwork is again disappointing, though i must say that i was not suprised at all. mujhe aise hi substandard artwork ki ummed thi. the faces are all blurred. har frame me alag, aur koi individuality nahi hai. because this comic is set on a cosmic scale, the artwork should have been rich and grand. full page frames ka pura use karna tha. magar aisa kuch bhi nahi hai. the artwork is downright unpleasant. OVERALL this comics narrowly avoids being a diappointment, and that happened because of a superb main plot. however don't bother delving into the subplots, and as always, ignore the artwork.
kunal bharati