NAGAYAN UPSANHAR

Email
Printed
NAGAYAN UPSANHAR
Code: SPCL-2558-H
Pages: 32
ISBN: 9789332422728
Language: Hindi
Colors: Four
Author: Jolly Sinha, Anupam Sinha
Penciler: Anupam Sinha
Inker: Vinod Kumar
Colorist: Abhishek Singh
Paper: Glossy
Condition: Fresh
Price: Printed
Rs. 50.00
Add to wish list
Description नागायण उपसंहार #2558 धरती पर हुआ काली शक्तियों का हमला और क्रूरपाशा बन गया उसका अगुआ! हुआ एक परमयुद्ध जिसकी इति हुई महानायकों के परमबलिदान से! महानायकों की अनुपस्थिति में एक बार फिर काली शक्तियां अपना वर्चस्व कायम करने के लिए सक्रिय हो चुकी हैं और उन्हें

Reviews

Wednesday, 10 September 2014
ok comic h and i waiting for mahanagayan,but kya aisa ho sakta h ki is ane wali series ki ending happy ho? nagayan mujhe bhut achchi lagi pr uski ending aisi thi ki mood kharb hogaya , Nagraj ke sth to thik kiya ki nagraj n visrpi dono mar gye par isme bhi natasha ke sth soutela behave kiya gya . agar scd mar gya tha to use bhi mar dete pr richa ko mara gya ,kyu? upar se scd ki cheating, ab chori chahe eh paise ki ho ya ek lakh ki chori to chori hoti h,to cheating to cheating hi h chahe jaise ho Ap abki br to perfect n happy ending kijiyega. kahte h na ki film ho ya life end me sb thk ho jta h to ye to comic h. is br natasha ke bre me bhi sochiyega . scd natasha ko is br alg mt kijiyega.aur richa se sch me pichha chhudwaiye.
sunil
Monday, 08 September 2014
Anupam ji ka artwork din b din nikharta ja raha he aur ab to kahaniya bhi badhiya hain.
rohitlal
Monday, 08 September 2014
meri yahi aapse prathna he ki sabhi heroes ko jinda kariye lekin unhe mummy na banaiye.
amit singh
Monday, 08 September 2014
nagayan ko fir se yad dila diya. mujhe mahanagayan ka intjar rahega asha he ki hamare sare hero fir jinda honge. artwork mast tha.
yashpal
Thursday, 31 July 2014
zaberdest comics hai ab mahanagayan ka intzaar hai
manoj
Tuesday, 29 July 2014
I haven't read any part of nagayan but I like the upsanhar.Mahanagayan has increase my heart beat .
Rhythm Dubey
Monday, 28 July 2014
Bdiya story h. par mujhe ye nahi samjh me ayay ki ye fifth dead body kiski thi? last me kaha gaya ki agar super heroes jinda hogye to natasha ,chandika aur bki ke jivit log mar jayege. mtlb ki un logo ke sth blackcat bhi jinda ho jayegi ? oh no kitni mushkil se usse fursat mili thi . plz anupam sir kisi ko bhi mariye , kisi ko bhi jinda kijiye pr blackcat ko jinda mt kijiye. usko brdast karna mushkil hogya h. khas tur pe jb vo natasha ki life spoil krti h. vaise bhi rishi ke roop me scd ne natasha ko ek trh ki cheating to ki h chahe jaise bhi ho pr rishi h to scd n us bakwas richa ka beta na.us par aapne use mahan dikha diya th. pr ab richa ko mahan mt dikhiyega. i hope end me natasha ke alag hone ki wjh scd ko pta chale and natasha aur scd apni misunderstanding khtm krke khushi se sth rahe. mai purna reader hu n mujhse ye dono sapreate dekhe nahi jate.
raman
Saturday, 26 July 2014
Page 17: Second last frame - "Jingaloo" mentioned instead of "Yayati" Also, whose is the 5th body. Both in the first and last full-page frames, 5 bodies are shown. Who is the fifth person?
Shobhit Dixit
Friday, 04 July 2014
Caution: Contents may me spoiler. राज कॉमिक्स की सबसे बड़ी सीरीज "नागायण" की अपार सफलता के बाद सीरीज इसकी कामयाबी को और आगे ले जाने के लिए राज कॉमिक्स लाने जा रही है "महा नागायण" और नागायण तथा महा नागायण को जोड़ने वाली बीच की कड़ी है "नागायण उपसंहार"। ………उपसंहार में दिखाए कुछ घटनाक्रमों को पढ़कर एक बार फिर नागायण जैसा ही आनंद आता है, इसको भी वैसा ही ट्रीटमेंट और कंसेप्ट मिला है जैसा नागायण में था परन्तु इस कॉमिक्स में कई गलतियां या कहें कन्फ्यूज़न भी आ गए हैं मसलन जैसा की हमने नागायण की अंतिम पार्ट "इति कांड" में पढ़ा था कि हमारे सुपरहीरोज़ ने अंत में ब्रह्माण्ड में फैली अमर काली शक्तियों से अनंत काल तक लड़ने के लिए अपनी आहुति दी थी ताकि उनकी अमर आत्माएं उन काली शक्तियों को रोक सके। इसमें नागराज, ध्रुव के साथ कई और पात्र भी शामिल थे जिनमे धनंजय, जिंगालु, विसर्पी, वनपुत्र, नागरानी, विशांक इत्यादि भी थे और महाकाल छिद्र को मारकर अंतिम आहुति खुद बाबा गोरखनाथ ने दी थी, परन्तु इसमें बाबा गोरखनाथ सहित कई किरदारों को जीवित दिखाया गया है? ऐसा कैसे और क्यों ये भी नहीं बताया गया, इसका कारण दिखाना आवश्यक है अन्यथा कहानी बेमतलब बन जाती है कि लेखक कुछ भी बताये जाये और पाठक बिना सोचे पढ़े जाये। कहानी में वैसे कोई कमी नहीं है नागायण की खत्म हो चुकी कहानी को आगे बढ़ाने का जो पॉइंट दिए गए हैं वो उचित है परन्तु सालों पहले आई कहानी को अगर आगे बढ़ा रहे हैं तो पहले जो कहानी में बता चुके हैं उसका अवलोकन कर लेना चाहिए, अनुपम जी शायद अपनी ही बताई कहानी का अवलोकन नहीं करते या फिर जो बदलाव करके कन्फ्यूज़न पैदा करते हैं उनका उत्तर भी दें। …………पहले भी उनकी कहानी में ऐसा हो चुका है "मैंने मारा ध्रुव को" में उन्होंने जो महामानव की गवाही डाली है वो अपनी पुरानी बताई जा चुकी कहानी का अवलोकन किये बिना लिख दी जिससे कन्फ्यूज़न पैदा हो गया। अब बात करते हैं "उपसंहार" की कहानी की तो कहानी वहीँ से आगे बढ़ रही इति कांड में ख़त्म हुयी थी, .............सुपर हीरोज़ ने ब्रह्माण्ड को बचाने के लिए अपनी आहुति दी अतः अब उनके प्रियजन उनका अंतिम संस्कार करने जा रहे हैं परन्तु तभी वहां हमला होता है और सभी सुपर हीरोज़ के शव एक अलग आयाम में चले गए अब उनको वापस लाना है जिसके लिए श्वेता, नताशा, नक्षत्र और विषांक की मदद करने आती है नगीना .......... दूसरी तरफ सुपर हीरोज़ की नयी पीढ़ी यानि नन्हे सुपर हीरोज़ कुछ और सोच रहे हैं यानि अपने पिता को पुनः जीवित करने का उपाय इसके लिए वे वहीँ पहुँचते हैं जहाँ से इस पूरे "नागायण" घटनाक्रम की शुरुआत हुयी थी। अब आगे इन दोनों घटनाक्रम में क्या हुआ इसे जानने के लिए आपको उपसंहार पढ़ना पड़ेगा। कॉमिक्स में आये चरित्रों की बात करें तो बाबा गोरखनाथ, विषांक कंफ्यूज करते हैं कि ये तो मर गए थे फिर वापस कैसे आये? ……एक तरफ बड़े लोग यानि श्वेता, नक्षत्र, नताशा की जंग है दूसरी तरफ नन्हे हीरोज़ ऋषि, जलज, जयं, ययाति और नागीश की..... असली मज़ा इन नन्हे जांबाजो के एक्शन में ही आता है इनके डॉयलॉग्स भी मस्त है जैसे दो दोस्त बात करते है लिखे "ओये जलज, ययाति कहाँ हो तुम दोनों" ऐसे डॉयलॉग्स पढ़कर अपनेपन का एहसास होता है।.……… विलेन्स में नगीना अपने चिर-परिचित रूप में है इस महान विलेन की विलेनियत में एक और अध्याय जुड़ गया नागपाशा और गुरु देव की भी वापसी हो गयी अब बस वापसी का इंतज़ार है तो मर चुके हीरोज़ के पुनः जीवित होने का और ये इंतज़ार खत्म होगा महा नागायण के आगाज़ के साथ। आर्टवर्क में नागायण जैसा ही आर्टवर्क है मज़ा आया। My Ratings 4.5/5
Mukesh Gupta
Thursday, 03 July 2014
NAGAYAN UPSANHAR - shayad hi kisi comics ka mujhe itna intzaar hua ho jitna ki is comics ka hai. Nagayan was and is undoubtedly the best series that rc has ever created to obviously is comic se mujhe kafi ummedein thi par 50 rs ki comics ke sirf 32 page meri ummedon ko kam kar rahe the. aur hua bhi yahi. ye comics ek nai kahani ki shuruat nahi balki ek purani kahani aur ek nayi kahani ke beech ki ek kadi matra hai. is comics ko paddh kar jo feeling ayrgi vo ye hogi ki "bas itna hi?" STORY - is ki story straight forward aur simple hai. shuruat hi iti kand ke end se hoti hai, ek achi baat is comics ki ye rahi ki isse vahi nagayan vali epic feel aati hai. halanki story kuch khaas nahi hai jaisa ki main upar likh chuka hun. is story mein do MAJOR plot holes hai jo ki main bina kahani spoil kiye bina nahi bata sakta, par donon se hi comics ka maja kharab ho gaya. characterization ki baat ki ja sakti hai par ek to vaise hi multistar likhna mushkil hota hai aur 32 pages mein to sabhi ko barabar time dena namumkin hai. sabhi characters aa to gaye hain par abhi sab log set nahi hue hain. halanki nagina ka role acha tha. ARTWORK - is comicx ka artwork expectedly acha tha par nagayan ke level ka nahi. glossy papers mein varan kand ka jo khoobsorat artwork tha ye to uske aas paas bhi nahi. rc has a hell of a job here. nagayan ka artwork from parts 1-5 ekdum world class tha aur rc ka best hai. OVERALL - i really want to say otherwise, but i was disappointed. comics mein content bahut hi kam hai aur 32 pages mein upsanhar jaisi series ka first part nikalna ekdum unjustified hai. jo log ise varan kand ke caliber ka samajh kar khareedenge unhe nirasha hogi. this is a weak start but it raises sufficient questions, which i think was raj comic's goal all along. could have been much better
kunal bharati